noImage

अल्ताफ़ मशहदी

1914 - 1981 | सरगोधा, पाकिस्तान

इंक़लाब और हुस्न-ओ-इश्क़ के शायर,नाटककार,गीतकार, मुशाएरा के बड़े शायर ,अपनी नज़्म “झूम कर उठो वतन आज़ाद करने के लिए” की वजह से मशहूर

इंक़लाब और हुस्न-ओ-इश्क़ के शायर,नाटककार,गीतकार, मुशाएरा के बड़े शायर ,अपनी नज़्म “झूम कर उठो वतन आज़ाद करने के लिए” की वजह से मशहूर

ग़ज़ल 5

 

नज़्म 4

 

शेर 3

फिर दयार-ए-हिन्द को आबाद करने के लिए

झूम कर उट्ठो वतन आज़ाद करने के लिए

  • शेयर कीजिए

टपके जो अश्क वलवले शादाब हो गए

कितने अजीब इश्क़ के आदाब हो गए

  • शेयर कीजिए

पी के जीते हैं जी के पीते हैं

हम को रग़बत है ऐसे जीने से

 

पुस्तकें 7

Dagar

 

1946

Dagh-e-Bel

 

 

Preet Ke Geet

 

 

Preet Ke Geet

 

 

Tasveer-e-Ehsas

 

 

Tazyane

 

 

 

"सरगोधा" के और शायर

  • शहज़ाद वासिक़ शहज़ाद वासिक़
  • मुक़द्दस मालिक मुक़द्दस मालिक
  • ऐमन जुनैद ख़ान ऐमन जुनैद ख़ान
  • ज़ुल्फ़िक़ार अहसन ज़ुल्फ़िक़ार अहसन
  • अफ़ज़ल गौहर राव अफ़ज़ल गौहर राव
  • मोईन निज़ामी मोईन निज़ामी
  • अरशद महमूद अरशद अरशद महमूद अरशद
  • फख़्र अब्बास फख़्र अब्बास
  • जानाँ मलिक जानाँ मलिक
  • ऐन नक़्वी ऐन नक़्वी