ग़ज़ल 11

शेर 15

तुम्हारी याद की शिद्दत में बहने वाला अश्क

ज़मीं में बो दिया जाए तो आँख उग आए

  • शेयर कीजिए

अच्छा तिरी नज़र में बहुत मुख़्तलिफ़ हूँ मैं

यानी तिरी नज़र में कोई दूसरा भी है

  • शेयर कीजिए

कामयाबी की दुआएँ मुझे देने वाले

मैं तिरे इश्क़ में नाकाम हुआ जाता हूँ

  • शेयर कीजिए

"सरगोधा" के और शायर

  • अनवर सदीद अनवर सदीद
  • जानाँ मलिक जानाँ मलिक
  • अफ़ज़ल गौहर राव अफ़ज़ल गौहर राव
  • अरशद महमूद अरशद अरशद महमूद अरशद
  • मुक़द्दस मालिक मुक़द्दस मालिक
  • फख़्र अब्बास फख़्र अब्बास
  • अज़्बर सफ़ीर अज़्बर सफ़ीर
  • मोईन निज़ामी मोईन निज़ामी
  • ऐन नक़्वी ऐन नक़्वी
  • शहज़ाद वासिक़ शहज़ाद वासिक़