Ameer Qazalbash's Photo'

अमीर क़ज़लबाश

1943 - 2003 | दिल्ली, भारत

लोकप्रिय शायर और फि़ल्म गीतकार/प्रेम रोग और राम तेरी गंगा मैली के गीतों के लिए मशहूर

लोकप्रिय शायर और फि़ल्म गीतकार/प्रेम रोग और राम तेरी गंगा मैली के गीतों के लिए मशहूर

अमीर क़ज़लबाश के शेर

14.5K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

मिरे जुनूँ का नतीजा ज़रूर निकलेगा

इसी सियाह समुंदर से नूर निकलेगा

लोग जिस हाल में मरने की दुआ करते हैं

मैं ने उस हाल में जीने की क़सम खाई है

उसे बेचैन कर जाऊँगा मैं भी

ख़मोशी से गुज़र जाऊँगा मैं भी

इक परिंदा अभी उड़ान में है

तीर हर शख़्स की कमान में है

यकुम जनवरी है नया साल है

दिसम्बर में पूछूँगा क्या हाल है

वक़्त के साथ बदलना तो बहुत आसाँ था

मुझ से हर वक़्त मुख़ातिब रही ग़ैरत मेरी

उसी का शहर वही मुद्दई वही मुंसिफ़

हमें यक़ीं था हमारा क़ुसूर निकलेगा

हर क़दम पे नाकामी हर क़दम पे महरूमी

ग़ालिबन कोई दुश्मन दोस्तों में शामिल है

तुम राह में चुप-चाप खड़े हो तो गए हो

किस किस को बताओगे कि घर क्यूँ नहीं जाते

सुना है अब भी मिरे हाथ की लकीरों में

नजूमियों को मुक़द्दर दिखाई देता है

आइने से नज़र चुराते हैं

जब से अपना जवाब देखा है

मिरे पड़ोस में ऐसे भी लोग बसते हैं

जो मुझ में ढूँड रहे हैं बुराइयाँ अपनी

मुझ से बच बच के चली है दुनिया

मेरे नज़दीक ख़ुदा हो जैसे

आज की रात भी गुज़री है मिरी कल की तरह

हाथ आए सितारे तिरे आँचल की तरह

ज़िंदगी और हैं कितने तिरे चेहरे ये बता

तुझ से इक उम्र की हालाँकि शनासाई है

क़त्ल हो तो मेरा सा मौत हो तो मेरी सी

मेरे सोगवारों में आज मेरा क़ातिल है

सुब्ह तक मैं सोचता हूँ शाम से

जी रहा है कौन मेरे नाम से

यार क्या ज़िंदगी है सूरज की

सुब्ह से शाम तक जला करना

मैं क्या जानूँ घरों का हाल क्या है

मैं सारी ज़िंदगी बाहर रहा हूँ

क्या गुज़रती है मिरे बाद उस पर

आज मैं उस से बिछड़ कर देखूँ

इतना बेदारियों से काम लो

दोस्तो ख़्वाब भी ज़रूरी है

मिरे घर में तो कोई भी नहीं है

ख़ुदा जाने मैं किस से डर रहा हूँ

मैं ने क्यूँ तर्क-ए-तअल्लुक़ की जसारत की है

तुम अगर ग़ौर करोगे तो पशीमाँ होगे

कुछ तो अपनी ख़बर मिले मुझ को

मेरे बारे में कुछ कहा करना

एक ख़बर है तेरे लिए

दिल पर पत्थर भारी रख

पूछा है ग़ैर से मिरे हाल-ए-तबाह को

इज़हार-ए-दोस्ती भी किया दुश्मनी के साथ

अपने हमराह ख़ुद चला करना

कौन आएगा मत रुका करना

मुज़्तरिब हैं मौजें क्यूँ उठ रहे हैं तूफ़ाँ क्यूँ

क्या किसी सफ़ीने को आरज़ू-ए-साहिल है

होना पड़ा है ख़ूगर-ए-ग़म भी ख़ुशी की ख़ैर

वो मुझ पे मेहरबाँ हैं मगर बे-रुख़ी के साथ

जाने कैसा मसीहा था चाहता क्या था

तमाम शहर को बीमार देख कर ख़ुश था

अब सिपर ढूँड कोई अपने लिए

तीर कम रह गए कमानों में

ज़िंदगी की दौड़ में पीछे था

रह गया वो सिर्फ़ दो इक गाम से

ज़रा बदलूंगा इस बे-मंज़री को

फिर उस के बाद मर जाऊँगा मैं भी

जहाँ जहाँ भी है नहर-ए-फ़ुरात का इम्काँ

वहीं यज़ीद का लश्कर दिखाई देता है

ख़ाली हाथ निकल घर से

ज़ाद-ए-सफ़र हुश्यारी रख

जश्न-ए-बहार-ए-नौ है नशेमन की ख़ैर हो

उट्ठा है क्यूँ चमन में धुआँ रौशनी के साथ

अदा हुआ है जो इक लफ़्ज़ बे-असास हो

मिरा ख़ुदा कहीं मेरी तरह उदास हो

सुकूत-ए-शब में दर-ए-दिल पे एक दस्तक थी

बिखर गई तिरी यादों की कहकशाँ मुझ से

मेरे उस के दरमियाँ हाइल कई कोहसार हैं

मुझ तक आते-आते बादल तिश्ना-लब हो जाएगा

कहीं सलीब कहीं कर्बला नज़र आए

जिधर निगाह उठे ज़ख़्म सा नज़र आए

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI