Anees Ansari's Photo'

अनीस अंसारी

1949 | फतेहपुर, भारत

अनीस अंसारी के शेर

205
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

मैं ने आँखों में जला रखा है आज़ादी का तेल

मत अंधेरों से डरा रख कि मैं जो हूँ सो हूँ

बड़ा आज़ार-ए-जाँ है वो अगरचे मेहरबाँ है वो

अगरचे मेहरबाँ है वो बड़ा आज़ार-ए-जाँ है वो

नाम तेरा भी रहेगा सितमगर बाक़ी

जब है फ़िरऔन चंगेज़ का लश्कर बाक़ी

कभी दरवेश के तकिया में भी कर देखो

तंग-दस्ती में भी आराम मयस्सर निकला

लाश क़ातिल ने खुली फेंक दी चौराहे पर

देखने वाला कोई घर से बाहर निकला

तिरी महफ़िल में सब बैठे हैं कर

हमारा बैठना दुश्वार क्यूँ है

हर एक शख़्स तुम्हारी तरह नहीं होता

कोई किसी से मोहब्बत कहाँ करे कैसे

तुम को भी पहचान नहीं है शायद मेरी उलझन की

लेकिन हम मिलते रहते तो अच्छा ही रहता जानम

तुम दर्द की लज़्ज़त क्या जानो कब तुम ने चखे हैं ज़हर-ए-सुबू

हम अपने वजूद के शाहिद हैं संगसार हुए शमशीर हुए

बना कर रख तू घर अच्छा रहेगा

तू मालिक बन किराए-दार क्यूँ है

एक ग़म होता तो सीने से लगा लेता कोई

ग़म का अम्बार उठाने पे पहुँचा आख़िर

हिज्र के छोटे गाँव से हम ने शहर-ए-वस्ल को हिजरत की

शहर-ए-वस्ल ने नींद उड़ा कर ख़्वाबों को पामाल किया

जो परिंदे उड़ नहीं सकते अब उन की ख़ैर हो

आने वाला है इसी जानिब शिकारी हाए हाए

तोतली उम्र में जो बच्चा ज़रा मुशफ़िक़ था

कुछ बड़ा हो के दहाने पे पहुँचा आख़िर

तिरी आँखों ने धोया है मुझे यूँ

मैं बिल्कुल साफ़-सुथरा हो गया हूँ

हिज्र में वैसे भी आती है मुसीबत जान पर

पर रक़ीबों की अलग है ख़ंदा-कारी हाए हाए