Anjum Irfani's Photo'

अंजुम इरफ़ानी

1937 | बलरामपुर, भारत

अंजुम इरफ़ानी

ग़ज़ल 14

शेर 23

चराग़ चाँद शफ़क़ शाम फूल झील सबा

चुराईं सब ने ही कुछ कुछ शबाहतें तेरी

कोई पुराना ख़त कुछ भूली-बिसरी याद

ज़ख़्मों पर वो लम्हे मरहम होते हैं

सफ़र में हर क़दम रह रह के ये तकलीफ़ ही देते

बहर-सूरत हमें इन आबलों को फोड़ देना था

तेशा-ब-कफ़ को आइना-गर कह दिया गया

जो ऐब था उसे भी हुनर कह दिया गया

लहजे का रस हँसी की धनक छोड़ कर गया

वो जाते जाते दिल में कसक छोड़ कर गया

पुस्तकें 2

Joo-e-Samat

 

2008

Libas-e-Zakhm

 

1984

 

"बलरामपुर" के और शायर

  • एहतिमाम सादिक़ एहतिमाम सादिक़
  • अख़्तर पयामी अख़्तर पयामी
  • बेकल उत्साही बेकल उत्साही