Anwar Taban's Photo'

अनवर ताबाँ

1944 - 2016 | सहारनपुर, भारत

अनवर ताबाँ के शेर

288
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

ख़ुशी की बात और है ग़मों की बात और

तुम्हारी बात और है हमारी बात और

हँसते हँसते निकल पड़े आँसू

रोते रोते कभी हँसी आई

हर एक शख़्स मिरा शहर में शनासा था

मगर जो ग़ौर से देखा तो मैं अकेला था

जी तो ये चाहता है मर जाएँ

ज़िंदगी अब तिरी रज़ा क्या है

इस ख़ौफ़ में कि खुद भटक जाएँ राह में

भटके हुओं को राह दिखाता नहीं कोई

ये यक़ीं है की मेरी उल्फ़त का

होगा उन पर असर कभी कभी

सुकून क़ल्ब को जिस से मिल जाए 'ताबाँ'

ग़ज़ल कोई ऐसी सुना दीजिएगा

आएगा वो दिन हमारी ज़िंदगी में भी ज़रूर

जो अँधेरों को मिटा कर रौशनी दे जाएगा

कुछ समझ में मिरी नहीं आता

दिल लगाने से फ़ाएदा क्या है

तू उस निगाह से पी वक़्त-ए-मय-कशी 'ताबाँ'

की जिस निगाह पे क़ुर्बान पारसाई हो

तुम्हें दिल दे तो दे 'ताबाँ' ये डर है

हमेशा को तुम्हारा हो जाए

शायद जाए कभी देखने वो रश्क-ए-मसीह

मैं किसी और से इस वास्ते अच्छा हुआ

दिल है परेशाँ उन की ख़ातिर

पल भर को आराम नहीं है

हरीम-ए-नाज़ के पर्दे में जो निहाँ था कभी

उसी ने शोख़ अदाएँ दिखा के लूट लिया

सितम भी मुझ पे वो करता रहा करम की तरह

वो मेहरबाँ तो था मेहरबान जैसा था

आज मग़्मूम क्यूँ हो 'ताबाँ'

कुछ तो बोलो कि माजरा क्या है

किसी की बर्क़-ए-नज़र से बिजलियों से जले

कुछ इस तरह की हो ता'मीर आशियाने की

समझ से काम जो लेता हर एक बशर 'ताबाँ'

हाहा-कार ही मचते घर जला करते

शग़्ल था दश्त-नवर्दी का कभी 'ताबाँ'

अब गुलिस्ताँ में भी जाते हुए डर लगता है

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए