Ashfaq Husain's Photo'

अशफ़ाक़ हुसैन

1951 | कनाडा

कनाडा में प्रवासी उर्दू के मशहूर शायर

कनाडा में प्रवासी उर्दू के मशहूर शायर

475
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

जो ख़्वाब की दहलीज़ तलक भी नहीं आया

आज उस से मुलाक़ात की सूरत निकल आई

फूल महकेंगे यूँही चाँद यूँही चमकेगा

तेरे होते हुए मंज़र को हसीं रहना है

दिल की जागीर में मेरा भी कोई हिस्सा रख

मैं भी तेरा हूँ मुझे भी तो कहीं रहना है

तुम्हें मनाने का मुझ को ख़याल क्या आए

कि अपने आप से रूठा हुआ तो मैं भी हूँ

मैं अपनी प्यास में खोया रहा ख़बर हुई

क़दम क़दम पे वो दरिया पुकारता था मुझे

वो हो सका अपना तो हम हो गए उस के

उस शख़्स की मर्ज़ी ही में ढाले हुए हम हैं

दिन भर के झमेलों से बचा लाया था ख़ुद को

शाम आते ही 'अश्फ़ाक़' मैं टूटा हुआ क्यूँ हूँ

तलाश अपनी ख़ुद अपने वजूद को खो कर

ये कार-ए-इश्क़ है इस में लगा तो मैं भी हूँ

बहुत छोटा सा दिल और इस में इक छोटी सी ख़्वाहिश

सो ये ख़्वाहिश भी अब नीलाम करने के लिए है

लफ़्ज़ों में हर इक रंज समोने का क़रीना

उस आँख में ठहरे हुए पानी से मिला है

टूटे हुए लोग हैं सलामत

ये नक़्ल-ए-मकानी का मोजज़ा है

काम जो उम्र-ए-रवाँ का है उसे करने दे

मेरी आँखों में सदा तुझ को हसीं रहना है

खुल कर तो वो मुझ से कभी मिलता ही नहीं है

और उस से बिछड़ जाने का इम्कान है यूँ भी

दिल में सौ तीर तराज़ू हुए तब जा के खुला

इस क़दर सहल था जाँ से गुज़रना मेरा

कौन हैं वो जिन्हें आफ़ाक़ की वुसअत कम है

ये समुंदर ये दरिया ये सहरा मेरा