ग़ज़ल 2

 

शेर 2

उर्दू के चंद लफ़्ज़ हैं जब से ज़बान पर

तहज़ीब मेहरबाँ है मिरे ख़ानदान पर

  • शेयर कीजिए

दिल की बस्ती में उजाला ही उजाला होता

काश तुम ने भी किसी दर्द को पाला होता

  • शेयर कीजिए
 

क़ितआ 1

 

चित्र शायरी 1

नज़र नज़र में उतरना कमाल होता है नफ़स नफ़स में बिखरना कमाल होता है बुलंदियों पे पहुँचना कोई कमाल नहीं बुलंदियों पे ठहरना कमाल होता है

 

संबंधित शायर

  • नवाज़ देवबंदी नवाज़ देवबंदी समकालीन
  • इक़बाल अशहर इक़बाल अशहर समकालीन

"मुजफ्फरनगर" के और शायर

  • हामिद मुख़्तार हामिद हामिद मुख़्तार हामिद
  • आस फ़ातमी आस फ़ातमी
  • मोहम्मद अमीर आज़म क़ुरैशी मोहम्मद अमीर आज़म क़ुरैशी
  • एहतिशामुल हक़ सिद्दीक़ी एहतिशामुल हक़ सिद्दीक़ी
  • कामरान आदिल कामरान आदिल
  • अयाज़ अहमद तालिब अयाज़ अहमद तालिब
  • मुज़फ़्फ़र रज़्मी मुज़फ़्फ़र रज़्मी
  • तनवीर गौहर तनवीर गौहर
  • नवेद अंजुम नवेद अंजुम
  • ऐन इरफ़ान ऐन इरफ़ान