Hamid Mukhtar Hamid's Photo'

हामिद मुख़्तार हामिद

मुजफ्फरनगर, भारत

ग़ज़ल 7

शेर 8

ये जफ़ाओं की सज़ा है कि तमाशाई है तू

ये वफ़ाओं की सज़ा है कि पए-दार हूँ मैं

आज का ख़त ही उसे भेजा है कोरा लेकिन

आज का ख़त ही अधूरा नहीं लिख्खा मैं ने

उम्र ही तेरी गुज़र जाएगी उन के हल में

तेरा बच्चा जो सवालात लिए बैठा है

ई-पुस्तक 1

 

"मुजफ्फरनगर" के और शायर

  • आस फ़ातमी आस फ़ातमी
  • अशोक साहिल अशोक साहिल
  • ऐन इरफ़ान ऐन इरफ़ान
  • मुज़फ़्फ़र रज़्मी मुज़फ़्फ़र रज़्मी
  • अयाज़ अहमद तालिब अयाज़ अहमद तालिब
  • मोहम्मद अमीर आज़म क़ुरैशी मोहम्मद अमीर आज़म क़ुरैशी
  • एहतिशामुल हक़ सिद्दीक़ी एहतिशामुल हक़ सिद्दीक़ी
  • नवेद अंजुम नवेद अंजुम
  • कामरान आदिल कामरान आदिल
  • तनवीर गौहर तनवीर गौहर