मुजफ्फरनगर के शायर और अदीब

कुल: 30

अपने शेर 'ये जब्र भी देखा है तारीख़ की नज़रों ने' के लिए विख्यात।

बोलिए