aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर

अशोक साहिल

ग़ज़ल 2

 

अशआर 3

उर्दू के चंद लफ़्ज़ हैं जब से ज़बान पर

तहज़ीब मेहरबाँ है मिरे ख़ानदान पर

  • शेयर कीजिए

दिल की बस्ती में उजाला ही उजाला होता

काश तुम ने भी किसी दर्द को पाला होता

  • शेयर कीजिए

तेरे सिवा किसी से त'अल्लुक़ था मुझे

लेकिन तमाम शहर ने रुस्वा किया मुझे

  • शेयर कीजिए
 

क़ितआ 1

 

चित्र शायरी 1

 

संबंधित शायर

"मुजफ्फरनगर" के और शायर

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए