अशोक साहिल

ग़ज़ल 2

 

अशआर 2

उर्दू के चंद लफ़्ज़ हैं जब से ज़बान पर

तहज़ीब मेहरबाँ है मिरे ख़ानदान पर

  • शेयर कीजिए

दिल की बस्ती में उजाला ही उजाला होता

काश तुम ने भी किसी दर्द को पाला होता

  • शेयर कीजिए
 

क़ितआ 1

 

चित्र शायरी 1

 

संबंधित शायर

"मुजफ्फरनगर" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए