Ayaz Rasool Nazki's Photo'

आयाज़ रसूल नाज़की

1950 | श्रीनगर, भारत

जम्मू कश्मीर प्रांत के शायरों में एक महत्वपूर्ण नाम

जम्मू कश्मीर प्रांत के शायरों में एक महत्वपूर्ण नाम

चित्र शायरी 1

यहाँ तो शहर से दीवार-ओ-दर ही ग़ाएब हैं छतों के बा'द मकानों को ले उड़ी है हवा तमाम शहर था सड़कों पे आज रात गए सुना है फिर से जवानों को ले उड़ी है हवा सफ़र है रात का सहरा से वापसी कैसी तुम्हारे सारे निशानों को ले उड़ी है हवा चलेगी वक़्त की आँधी तो किस को बख़्शेगी न जाने कितने ज़मानों को ले उड़ी है हवा रहा न अब वो लब-ए-जू रहा न मय-ख़ाना हमारे सारे ठिकानों को ले उड़ी है हवा चलो वो वस्ल का वा'दा भी कल-अदम ठहरा तुम्हारे सारे बहानों को ले उड़ी है हवा हवा के दोश पे उड़ते तो हैं परिंदे पर नज़र के सामने दानों को ले उड़ी है हवा पड़े हैं तीर यहाँ ग़ाज़ियों के तरकश में अँधेरी शब में कमानों को ले उड़ी है हवा ग़लत थे सारे वो मीज़ाँ फ़रेब तख़मीने हमारे सारे गुमानों को ले उड़ी है हवा रखे थे किस ने वो औराक़ ताक़चे पे 'अयाज़' वो चाहतों के फ़सानों को ले उड़ी है हवा

 

"श्रीनगर" के और शायर

  • रफ़ीक राज़ रफ़ीक राज़
  • मुज़फ़्फ़र इरज मुज़फ़्फ़र इरज
  • फ़ारूक़ नाज़की फ़ारूक़ नाज़की
  • शफ़क़ सुपुरी शफ़क़ सुपुरी
  • हमदम कशमीरी हमदम कशमीरी
  • फ़रीद परबती फ़रीद परबती
  • हामिदी काश्मीरी हामिदी काश्मीरी
  • क़तील मेहदी क़तील मेहदी
  • इरफ़ान अहमद मीर इरफ़ान अहमद मीर