noImage

अज़ीज़ुर्रहमान शहीद फ़तेहपुरी

फतेहपुर, भारत

ग़ज़ल 6

शेर 6

जाने कौन सी मंज़िल पे इश्क़ पहुँचा

दुआ भी काम आए कोई दवा लगे

शहर हो दश्त-ए-तमन्ना हो कि दरिया का सफ़र

तेरी तस्वीर को सीने से लगा रक्खा है

ये बात सच है कि मरना सभी को है लेकिन

अलग ही होती है लज़्ज़त निगाह-ए-क़ातिल की

"फतेहपुर" के और शायर

  • सिया सचदेव सिया सचदेव
  • नवीन जोशी नवीन जोशी
  • प्रताप सोमवंशी प्रताप सोमवंशी
  • दीपक पुरोहित दीपक पुरोहित
  • इन्दिरा वर्मा इन्दिरा वर्मा
  • ख़्वाजा जावेद अख़्तर ख़्वाजा जावेद अख़्तर
  • मक़सूद आफ़ाक़ मक़सूद आफ़ाक़
  • दिनेश कुमार दिनेश कुमार
  • मुईन शादाब मुईन शादाब
  • फ़ौज़िया रबाब फ़ौज़िया रबाब