zafar iqbal zafar's Photo'

ज़फ़र इक़बाल ज़फ़र

1940 | फतेहपुर, भारत

ज़फ़र इक़बाल ज़फ़र

ग़ज़ल 20

शेर 25

राब्ता क्यूँ रखूँ मैं दरिया से

प्यास बुझती है मेरी सहरा से

हम लोग तो मरते रहे क़िस्तों में हमेशा

फिर भी हमें जीने का हुनर क्यूँ नहीं आया

मोम के लोग कड़ी धूप में बैठे हैं

आओ अब उन के पिघलने का तमाशा देखें

  • शेयर कीजिए

सहरा का सफ़र था तो शजर क्यूँ नहीं आया

माँगी थीं दुआएँ तो असर क्यूँ नहीं आया

आईने ही आईने थे हर तरफ़

फिर भी अपने आप में तन्हा था मैं

"फतेहपुर" के और शायर

  • ग़ुलाम मुर्तज़ा राही ग़ुलाम मुर्तज़ा राही
  • अनीस अंसारी अनीस अंसारी
  • अज़ीज़ुर्रहमान शहीद फ़तेहपुरी अज़ीज़ुर्रहमान शहीद फ़तेहपुरी
  • रिज़वान अहमद राज़ रिज़वान अहमद राज़
  • पयाम फ़तेहपुरी पयाम फ़तेहपुरी