noImage

ज़फ़र इक़बाल ज़फ़र

फतेहपुर, भारत

ग़ज़ल 20

शेर 25

हम लोग तो मरते रहे क़िस्तों में हमेशा

फिर भी हमें जीने का हुनर क्यूँ नहीं आया

मोम के लोग कड़ी धूप में बैठे हैं

आओ अब उन के पिघलने का तमाशा देखें

  • शेयर कीजिए

आईने ही आईने थे हर तरफ़

फिर भी अपने आप में तन्हा था मैं

"फतेहपुर" के और शायर

  • ग़ुलाम मुर्तज़ा राही ग़ुलाम मुर्तज़ा राही
  • अनीस अंसारी अनीस अंसारी
  • अज़ीज़ुर्रहमान शहीद फ़तेहपुरी अज़ीज़ुर्रहमान शहीद फ़तेहपुरी
  • रिज़वान अहमद राज़ रिज़वान अहमद राज़
  • पयाम फ़तेहपुरी पयाम फ़तेहपुरी