noImage

ज़फ़र इक़बाल ज़फ़र

फतेहपुर, भारत

268
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

हम लोग तो मरते रहे क़िस्तों में हमेशा

फिर भी हमें जीने का हुनर क्यूँ नहीं आया

मोम के लोग कड़ी धूप में बैठे हैं

आओ अब उन के पिघलने का तमाशा देखें

सहरा का सफ़र था तो शजर क्यूँ नहीं आया

माँगी थीं दुआएँ तो असर क्यूँ नहीं आया

आईने ही आईने थे हर तरफ़

फिर भी अपने आप में तन्हा था मैं

रेत का हम लिबास पहने हैं

और हवा के सफ़र पे निकले हैं

वो ज़ब्त था कि आह निकली ज़बान से

दिल पे हमारे कितने ही ख़ंजर गुज़र गए

फैली हुई है चाँदनी एहसास में मिरे

ये कौन मेरी ज़ात के अंदर उतर गया

हादसों से खेलने के बावजूद

आज भी वैसा हूँ कल जैसा था मैं

मैं ज़द पे तीरों के ख़ुद गया हूँ आज 'ज़फ़र'

तिरे निशाने को आसान कर दिया मैं ने

राब्ता क्यूँ रखूँ मैं दरिया से

प्यास बुझती है मेरी सहरा से

कुछ ऐसे कम-नज़र भी मुसाफ़िर हमें मिले

जो साया ढूँडते हैं शजर काटने के बा'द

कोई भी शय हसीं लगती नहीं जब तेरे सिवा

ये बता शहर में हम तेरे सिवा क्या देखें

आप दरिया की रवानी से उलझें हरगिज़

तह में उस के कोई गिर्दाब भी हो सकता है

कोई कंकर फेंकने वाला नहीं

कैसे फिर हो झील में हलचल कोई

कोई पुरसाँ नहीं ग़मों का 'ज़फ़र'

देखने में हज़ार रिश्ते हैं

कोई फूल ही रखा आरज़ू चराग़

तमाम घर को बयाबान कर दिया मैं ने

तहज़ीब ही बाक़ी है अब शर्म-ओ-हया कुछ

किस दर्जा अब इंसान ये बेबाक हुआ है

हैं जितने मोहरे यहाँ सारे पिटने वाले हैं

किसे मैं शह करूँ अपना किसे ग़ुलाम करूँ

उतरी हुई है धूप बदन के हिसार में

क़ुर्बत के फ़ासलों का सफ़र काटने के बा'द

उस जैसा दूसरा समाया निगाह में

कितने हसीन आँखों से पैकर गुज़र गए

बुझ गई है बस्तियों की आग इक मुद्दत हुई

ज़ेहन में लेकिन अभी तक शो'लगी मौजूद है

मिली जब उन्हें ता'बीर अपने ख़्वाबों की

फिर अपनी आँखों को नीलाम कर दिया सब ने

मिरी चीख़ें फ़सीलों से कभी बाहर नहीं जातीं

शिकस्ता हो के गिरने पर सदा देती हैं दीवारें

हमारी ज़ीस्त में ऐसे भी लम्हे आते हैं अक्सर

दरारों के तवस्सुत से हवा देती हैं दीवारें

तू ने नज़रें मिलाने की क़सम खाई है

आइना सामने रख कर तिरा चेहरा देखें