Bismil Azimabadi's Photo'

बिस्मिल अज़ीमाबादी

1901 - 1978 | पटना, भारत

अज़ीमाबाद के नामचीन शायर, मशहूर शेर ‘सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है / देखना है जोर कितना बाज़ुए क़ातिल में है’ के रचयिता

अज़ीमाबाद के नामचीन शायर, मशहूर शेर ‘सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है / देखना है जोर कितना बाज़ुए क़ातिल में है’ के रचयिता

5.62K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है

वक़्त आने दे दिखा देंगे तुझे आसमाँ

हम अभी से क्यूँ बताएँ क्या हमारे दिल में है

अपने ज़ब्त को रुस्वा करो सता के मुझे

ख़ुदा के वास्ते देखो मुस्कुरा के मुझे

हो मायूस ख़ुदा से 'बिस्मिल'

ये बुरे दिन भी गुज़र जाएँगे

मजबूरियों को अपनी कहें क्या किसी से हम

लाए गए हैं, आए नहीं हैं ख़ुशी से हम

अल्लाह तेरे हाथ है अब आबरू-ए-शौक़

दम घुट रहा है वक़्त की रफ़्तार देख कर

तुम सुन के क्या करोगे कहानी ग़रीब की

जो सब की सुन रहा है कहेंगे उसी से हम

देखा तुम ने आँख उठा कर भी एक बार

गुज़रे हज़ार बार तुम्हारी गली से हम

जुरअत-ए-शौक़ तो क्या कुछ नहीं कहती लेकिन

पाँव फैलाने नहीं देती है चादर मुझ को

एक दिन वो दिन थे रोने पे हँसा करते थे हम

एक ये दिन हैं कि अब हँसने पे रोना आए है

सौदा वो क्या करेगा ख़रीदार देख कर

घबरा गया जो गर्मी-ए-बाज़ार देख कर

चमन को लग गई किस की नज़र ख़ुदा जाने

चमन रहा रहे वो चमन के अफ़्साने

'बिस्मिल' बुतों का इश्क़ मुबारक तुम्हें मगर

इतने निडर हो कि ख़ुदा का भी डर हो

ये ज़िंदगी भी कोई ज़िंदगी हुई 'बिस्मिल'

रो सके कभी हँस सके ठिकाने से

कहाँ क़रार है कहने को दिल क़रार में है

जो थी ख़िज़ाँ में वही कैफ़ियत बहार में है

आज़ादी ने बाज़ू भी सलामत नहीं रक्खे

ताक़त-ए-परवाज़ तुझे लाएँ कहाँ से

दास्ताँ पूरी होने पाई

ज़िंदगी ख़त्म हुई जाती है

कहाँ तमाम हुई दास्तान 'बिस्मिल' की

बहुत सी बात तो कहने को रह गई दोस्त

किस हाल में हो कैसे हो क्या करते हो 'बिस्मिल'

मरते हो कि जीते हो ज़माने के असर से

ये कह के देती जाती है तस्कीं शब-ए-फ़िराक़

वो कौन सी है रात कि जिस की सहर हो

इक ग़लत सज्दे से क्या होता है वाइज़ कुछ पूछ

उम्र भर की सब रियाज़त ख़ाक में मिल जाए है

ख़िज़ाँ जब तक चली जाती नहीं है

चमन वालों को नींद आती नहीं है

ग़ैरों ने ग़ैर जान के हम को उठा दिया

बैठे जहाँ भी साया-ए-दीवार देख कर

क्या करें जाम-ओ-सुबू हाथ पकड़ लेते हैं

जी तो कहता है कि उठ जाइए मय-ख़ाने से

हँसी 'बिस्मिल' की हालत पर किसी को

कभी आती थी अब आती नहीं है

उगल संग-ए-मलामत ख़ुदा से डर नासेह

मिलेगा क्या तुझे शीशों के टूट जाने से

रहरव-ए-राह-ए-मोहब्बत रह जाना राह में

लज़्ज़त-ए-सहरा-नवर्दी दूरी-ए-मंज़िल में है

बयाबान-ए-जुनूँ में शाम-ए-ग़ुर्बत जब सताया की

मुझे रह रह कर सुब्ह-ए-वतन तू याद आया की