Farigh Bukhari's Photo'

फ़ारिग़ बुख़ारी

1917 - 1997 | पाकिस्तान

630
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

सफ़र में कोई किसी के लिए ठहरता नहीं

मुड़ के देखा कभी साहिलों को दरिया ने

कितने शिकवे गिले हैं पहले ही

राह में फ़ासले हैं पहले ही

दो दरिया भी जब आपस में मिलते हैं

दोनों अपनी अपनी प्यास बुझाते हैं

यही है दौर-ए-ग़म-ए-आशिक़ी तो क्या होगा

इसी तरह से कटी ज़िंदगी तो क्या होगा

पुकारा जब मुझे तन्हाई ने तो याद आया

कि अपने साथ बहुत मुख़्तसर रहा हूँ मैं

हम एक फ़िक्र के पैकर हैं इक ख़याल के फूल

तिरा वजूद नहीं है तो मेरा साया नहीं

तुम्हारे साथ ही उस को भी डूब जाना है

ये जानता है मुसाफ़िर तिरे सफ़ीने का

याद आएँगे ज़माने को मिसालों के लिए

जैसे बोसीदा किताबें हों हवालों के लिए

दीवारें खड़ी हुई हैं लेकिन

अंदर से मकान गिर रहा है

हज़ार तर्क-ए-वफ़ा का ख़याल हो लेकिन

जो रू-ब-रू हों तो बढ़ कर गले लगा लेना

क्या ज़माना है ये क्या लोग हैं क्या दुनिया है

जैसा चाहे कोई वैसा नहीं रहने देते

जलते मौसम में कोई फ़ारिग़ नज़र आता नहीं

डूबता जाता है हर इक पेड़ अपनी छाँव में

जितने थे तेरे महके हुए आँचलों के रंग

सब तितलियों ने और धनक ने उड़ा लिए

नई मंज़िल का जुनूँ तोहमत-ए-गुमराही है

पा-शिकस्ता भी तिरी राह में कहलाया हूँ

मोहब्बतों की शिकस्तों का इक ख़राबा हूँ

ख़ुदारा मुझ को गिराओ कि मैं दोबारा बनूँ

मंसूर से कम नहीं है वो भी

जो अपनी ज़बाँ से बोलता है

ज़िंदगी में ऐसी कुछ तुग़्यानीयाँ आती रहीं

बह गईं हैं उम्र भर की नेकियाँ दरियाओं में

हम से इंसाँ की ख़जालत नहीं देखी जाती

कम-सवादों का भरम हम ने रवा रक्खा है