Fatima Hasan's Photo'

प्रतिष्ठित शायरा

प्रतिष्ठित शायरा

फ़ातिमा हसन के शेर

7.3K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

क्या कहूँ उस से कि जो बात समझता ही नहीं

वो तो मिलने को मुलाक़ात समझता ही नहीं

ख़्वाबों पर इख़्तियार यादों पे ज़ोर है

कब ज़िंदगी गुज़ारी है अपने हिसाब में

सुकून-ए-दिल के लिए इश्क़ तो बहाना था

वगरना थक के कहीं तो ठहर ही जाना था

उलझ के रह गए चेहरे मिरी निगाहों में

कुछ इतनी तेज़ी से बदले थे उन की बात के रंग

मैं ने माँ का लिबास जब पहना

मुझ को तितली ने अपने रंग दिए

दिखाई देता है जो कुछ कहीं वो ख़्वाब हो

जो सुन रही हूँ वो धोका हो समाअत का

बहुत गहरी है उस की ख़ामुशी भी

मैं अपने क़द को छोटा पा रही हूँ

कितने अच्छे लोग थे क्या रौनक़ें थीं उन के साथ

जिन की रुख़्सत ने हमारा शहर सूना कर दिया

बिछड़ रहा था मगर मुड़ के देखता भी रहा

मैं मुस्कुराती रही मैं ने भी कमाल किया

उस के प्याले में ज़हर है कि शराब

कैसे मालूम हो बग़ैर पिए

सुनती रही मैं सब के दुख ख़ामोशी से

किस का दुख था मेरे जैसा भूल गई

और कोई नहीं है उस के सिवा

सुख दिए दुख दिए उसी ने दिए

पूरी अधूरी हूँ कम-तर हूँ बरतर

इंसान हूँ इंसान के मेआर में देखें

आँखों में ज़ुल्फ़ों में रुख़्सार में देखें

मुझ को मिरी दानिश मिरे अफ़्कार में देखें

अधूरे लफ़्ज़ थे आवाज़ ग़ैर-वाज़ेह थी

दुआ को फिर भी नहीं देर कुछ असर में लगी

कोई नहीं है मेरे जैसा चारों ओर

अपने गिर्द इक भीड़ सजा कर तन्हा हूँ

मकाँ बनाते हुए छत बहुत ज़रूरी है

बचा के सेहन में लेकिन शजर भी रखना है

हमारी नस्ल सँवरती है देख कर हम को

सो अपने-आप को शफ़्फ़ाफ़-तर भी रखना है

भूल गई हूँ किस से मेरा नाता था

और ये नाता कैसे टूटा भूल गई

कब उस की फ़त्ह की ख़्वाहिश को जीत सकती थी

मैं वो फ़रीक़ हूँ जिस को कि हार जाना था

मैं ने पहुँचाया उसे जीत के हर ख़ाने में

मेरी बाज़ी थी मिरी मात समझता ही नहीं

रात दरीचे तक कर रुक जाती है

बंद आँखों में उस का चेहरा रहता है

पहचान जिन से थी वो हवाले मिटा दिए

उस ने किताब-ए-ज़ात का सफ़्हा बदल दिया

ठेस कुछ ऐसी लगी है कि बिखरना है उसे

दिल में धड़कन की जगह दर्द है और जान नहीं

सुन रहे हैं कान जो कहते हैं सब

लोग लेकिन सोचते कुछ और हैं

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए