Fayyaz Farooqi's Photo'

फ़य्याज़ फ़ारुक़ी

1967 | लुधियाना, भारत

ग़ज़ल 6

शेर 7

जब उन की बज़्म में हर ख़ास आम रुस्वा है

अजीब क्या है अगर मेरा नाम रुस्वा है

  • शेयर कीजिए

राह में उस की चलें और इम्तिहाँ कोई हो

कैसे मुमकिन है कि आतिश हो धुआँ कोई हो

बढ़ाना हाथ पकड़ने को रंग मुट्ठी में

तो तितलियों के परों का दराज़ हो जाना

ई-पुस्तक 2

नज़्म नुमा

 

 

 

"लुधियाना" के और शायर

  • अंजुम लुधियानवी अंजुम लुधियानवी
  • वरुन आनन्द वरुन आनन्द
  • अजीत सिंह हसरत अजीत सिंह हसरत
  • मुकेश आलम मुकेश आलम
  • विशाल खुल्लर विशाल खुल्लर
  • अज़ीज़ प्रीहार अज़ीज़ प्रीहार
  • सागर सियालकोटी सागर सियालकोटी
  • सरदार पंछी सरदार पंछी