Vishal Khullar's Photo'

विशाल खुल्लर

1980 | लुधियाना, भारत

ग़ज़ल 15

शेर 11

दिल जो अब शोर करता रहता है

किस क़दर बे-ज़बान था पहले

आग दरिया को इशारों से लगाने वाला

अब के रूठा है बहुत मुझ को मनाने वाला

उसी के शेर सभी और उसी के अफ़्साने

उसी की प्यास का बादल घटा में आया है

पुस्तकें 2

Dhund Mein Amaan

 

2011

Khwab Palkon Mein

 

2017

 

"लुधियाना" के और शायर

  • अजीत सिंह हसरत अजीत सिंह हसरत
  • मुकेश आलम मुकेश आलम
  • अज़ीज़ प्रीहार अज़ीज़ प्रीहार
  • सागर सियालकोटी सागर सियालकोटी
  • सरदार पंछी सरदार पंछी
  • वरुन आनन्द वरुन आनन्द
  • फ़य्याज़ फ़ारुक़ी फ़य्याज़ फ़ारुक़ी
  • अंजुम लुधियानवी अंजुम लुधियानवी