Faza Ibn e Faizi's Photo'

फ़ज़ा इब्न-ए-फ़ैज़ी

1923 - 2009 | मऊनाथ भंजन, भारत

शायरी में एक आज़ाद सृजनात्मक अभिव्यक्ति के लिए प्रसिद्ध

शायरी में एक आज़ाद सृजनात्मक अभिव्यक्ति के लिए प्रसिद्ध

ग़ज़ल

आँखों के ख़्वाब दिल की जवानी भी ले गया

नोमान शौक़

आह को बाद-ए-सबा दर्द को ख़ुशबू लिखना

नोमान शौक़

जबीं पे गर्द है चेहरा ख़राश में डूबा

नोमान शौक़

ज़मीन चीख़ रही है कि आसमान गिरा

नोमान शौक़

मुझे मंज़ूर काग़ज़ पर नहीं पत्थर पे लिख देना

नोमान शौक़

लहू हमारी जबीं का किसी के चेहरे पर

नोमान शौक़

सराब-ए-जिस्म को सहरा-ए-जाँ में रख देना

नोमान शौक़

सुलगना अंदर अंदर मिस्रा-ए-तर सोचते रहना

नोमान शौक़

सवाल सख़्त था दरिया के पार उतर जाना

नोमान शौक़

हाथ फैलाओ तो सूरज भी सियाही देगा

नोमान शौक़

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI