George Puech Shor's Photo'

जोर्ज पेश शोर

1823 - 1894 | मेरठ, भारत

जोर्ज पेश शोर

ग़ज़ल 3

 

अशआर 20

दिल में अपने आरज़ू सब कुछ है और फिर कुछ नहीं

दो जहाँ की जुस्तुजू सब कुछ है और फिर कुछ नहीं

  • शेयर कीजिए

गुज़िश्ता साल जो देखा वो अब की साल नहीं

ज़माना एक सा बस हर बरस नहीं चलता

  • शेयर कीजिए

इक नज़र ने किया है काम तमाम

आरज़ू भी तो थी यही दिल की

  • शेयर कीजिए

देते दिल जो तुम को तो क्यूँ बनती जान पर

कुछ आप की ख़ता थी अपना क़ुसूर था

  • शेयर कीजिए

इसी ख़याल में दिन-रात मैं तड़पता हूँ

तुम्हीं क़रार भी दोगे जो बे-क़रार किया

  • शेयर कीजिए

रुबाई 8

पुस्तकें 4

 

"मेरठ" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए