George Puech Shor's Photo'

जोर्ज पेश शोर

1823 - 1894 | मेरठ, भारत

ग़ज़ल 3

 

शेर 20

दिल में अपने आरज़ू सब कुछ है और फिर कुछ नहीं

दो जहाँ की जुस्तुजू सब कुछ है और फिर कुछ नहीं

  • शेयर कीजिए

गुज़िश्ता साल जो देखा वो अब की साल नहीं

ज़माना एक सा बस हर बरस नहीं चलता

  • शेयर कीजिए

इक नज़र ने किया है काम तमाम

आरज़ू भी तो थी यही दिल की

  • शेयर कीजिए

देते दिल जो तुम को तो क्यूँ बनती जान पर

कुछ आप की ख़ता थी अपना क़ुसूर था

  • शेयर कीजिए

इसी ख़याल में दिन-रात मैं तड़पता हूँ

तुम्हीं क़रार भी दोगे जो बे-क़रार किया

  • शेयर कीजिए

रुबाई 8

पुस्तकें 2

Atthara Sau Sattawan Ke Inqilab Ka Aini Shahid: George Puech Shor

 

2011

Deewan-e-Shor

 

1877

 

"मेरठ" के और शायर

  • इस्माइल मेरठी इस्माइल मेरठी
  • पॉपुलर मेरठी पॉपुलर मेरठी
  • असरारुल हक़ असरार असरारुल हक़ असरार
  • हफ़ीज़ मेरठी हफ़ीज़ मेरठी
  • दीपक क़मर दीपक क़मर
  • बूम मेरठी बूम मेरठी
  • अज़हर इक़बाल अज़हर इक़बाल
  • शौक़ मुरादाबादी शौक़ मुरादाबादी
  • अफ़सर मेरठी अफ़सर मेरठी
  • नज़ीर मेरठी नज़ीर मेरठी