Ghulam Mohammad Qasir's Photo'

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

1941 - 1999 | पेशावर, पाकिस्तान

पाकिस्तान के लोकप्रिय और प्रतिष्ठित शयार

पाकिस्तान के लोकप्रिय और प्रतिष्ठित शयार

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

Bas ek ye manzar tah-e-aflaq na badle

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

Ek tha gair yahaan ek mera hamsaya tha

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

Ghulam Muhammad Qasir narrating a Natia nazm in khana e farhag e jamhuri o Islami Iran Peshawar 1997

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

Malboos ek silvat men gaii

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

Reciting own poetry

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

Urdu Ghazal Ghulam Muhammad Qasir Adel Key Manshoor Main Termeem Na Ker

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

गलियों की उदासी पूछती है घर का सन्नाटा कहता है

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

बग़ैर उस के अब आराम भी नहीं आता

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

बन में वीराँ थी नज़र शहर में दिल रोता है

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

मिलने की हर आस के पीछे अन-देखी मजबूरी थी

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

हर एक पल की उदासी को जानता है तो आ

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

हिज्र के तपते मौसम में भी दिल उन से वाबस्ता है

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

वीडियो का सेक्शन
शायरी वीडियो
AAJ TV report on Ghulam Muhammad Qasir`s 12 death anniversary

Amjad Aziz Malik beuro chief Geo News Peshawar Makes a report about Mr. Ghulam Muhammad Qasir on the death Anniversary

Ghulam Muhammad Qasir , Comments about Ghulam Muhammad Qasir, and part of the Condolence Program telecasted on his demise on PTV in February 1999.

Ghulam Muhammad Qasir` s 11th Death Anniversary, Samaa TV report

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
Amazing Urdu Naat by Ghulam Muhammad Qasir

अज्ञात

करूँगा क्या जो मोहब्बत में हो गया नाकाम

बग़ैर उस के अब आराम भी नहीं आता

अज्ञात

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

  • ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

  • Bas ek ye manzar tah-e-aflaq na badle

    Bas ek ye manzar tah-e-aflaq na badle ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

  • Ek tha gair yahaan ek mera hamsaya tha

    Ek tha gair yahaan ek mera hamsaya tha ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

  • Ghulam Muhammad Qasir narrating a Natia nazm in khana e farhag e jamhuri o Islami Iran Peshawar 1997

    Ghulam Muhammad Qasir narrating a Natia nazm in khana e farhag e jamhuri o Islami Iran Peshawar 1997 ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

  • Malboos ek silvat men gaii

    Malboos ek silvat men gaii ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

  • Reciting own poetry

    Reciting own poetry ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

  • Urdu Ghazal Ghulam Muhammad Qasir Adel Key Manshoor Main Termeem Na Ker

    Urdu Ghazal Ghulam Muhammad Qasir Adel Key Manshoor Main Termeem Na Ker ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

  • गलियों की उदासी पूछती है घर का सन्नाटा कहता है

    गलियों की उदासी पूछती है घर का सन्नाटा कहता है ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

  • बग़ैर उस के अब आराम भी नहीं आता

    बग़ैर उस के अब आराम भी नहीं आता ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

  • बन में वीराँ थी नज़र शहर में दिल रोता है

    बन में वीराँ थी नज़र शहर में दिल रोता है ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

  • मिलने की हर आस के पीछे अन-देखी मजबूरी थी

    मिलने की हर आस के पीछे अन-देखी मजबूरी थी ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

  • हर एक पल की उदासी को जानता है तो आ

    हर एक पल की उदासी को जानता है तो आ ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

  • हिज्र के तपते मौसम में भी दिल उन से वाबस्ता है

    हिज्र के तपते मौसम में भी दिल उन से वाबस्ता है ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

शायरी वीडियो

  • AAJ TV report on Ghulam Muhammad Qasir`s 12 death anniversary

    AAJ TV report on Ghulam Muhammad Qasir`s 12 death anniversary

  • Amjad Aziz Malik beuro chief Geo News Peshawar Makes a report about Mr. Ghulam Muhammad Qasir on the death Anniversary

    Amjad Aziz Malik beuro chief Geo News Peshawar Makes a report about Mr. Ghulam Muhammad Qasir on the death Anniversary

  • Ghulam Muhammad Qasir , Comments about Ghulam Muhammad Qasir, and part of the Condolence Program telecasted on his demise on PTV in February 1999.

    Ghulam Muhammad Qasir , Comments about Ghulam Muhammad Qasir, and part of the Condolence Program telecasted on his demise on PTV in February 1999.

  • Ghulam Muhammad Qasir` s 11th Death Anniversary, Samaa TV report

    Ghulam Muhammad Qasir` s 11th Death Anniversary, Samaa TV report

अन्य वीडियो

  • Amazing Urdu Naat by Ghulam Muhammad Qasir

    Amazing Urdu Naat by Ghulam Muhammad Qasir अज्ञात

  • करूँगा क्या जो मोहब्बत में हो गया नाकाम

    करूँगा क्या जो मोहब्बत में हो गया नाकाम

  • बग़ैर उस के अब आराम भी नहीं आता

    बग़ैर उस के अब आराम भी नहीं आता अज्ञात