Ghulam Mohammad Qasir's Photo'

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

1941 - 1999 | पेशावर, पाकिस्तान

पाकिस्तान के लोकप्रिय और प्रतिष्ठित शयार

पाकिस्तान के लोकप्रिय और प्रतिष्ठित शयार

ग़ज़ल 42

नज़्म 8

शेर 40

करूँगा क्या जो मोहब्बत में हो गया नाकाम

मुझे तो और कोई काम भी नहीं आता

किताब-ए-आरज़ू के गुम-शुदा कुछ बाब रक्खे हैं

तिरे तकिए के नीचे भी हमारे ख़्वाब रक्खे हैं

बारूद के बदले हाथों में जाए किताब तो अच्छा हो

काश हमारी आँखों का इक्कीसवाँ ख़्वाब तो अच्छा हो

ई-पुस्तक 2

Aathwan Aasman Bhi Nila Hai

 

1988

Tasalsul

 

1977

 

वीडियो 18

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

Bas ek ye manzar tah-e-aflaq na badle

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

Ek tha gair yahaan ek mera hamsaya tha

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

Ghulam Muhammad Qasir narrating a Natia nazm in khana e farhag e jamhuri o Islami Iran Peshawar 1997

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

Malboos ek silvat men gaii

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

Reciting own poetry

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

Urdu Ghazal Ghulam Muhammad Qasir Adel Key Manshoor Main Termeem Na Ker

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

गलियों की उदासी पूछती है घर का सन्नाटा कहता है

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

बग़ैर उस के अब आराम भी नहीं आता

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

हर एक पल की उदासी को जानता है तो आ

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

हिज्र के तपते मौसम में भी दिल उन से वाबस्ता है

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

ऑडियो 15

आफ़ाक़ में फैले हुए मंज़र से निकल कर

किताब-ए-आरज़ू के गुम-शुदा कुछ बाब रक्खे हैं

ख़ामोश थे तुम और बोलता था बस एक सितारा आँखों में

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • अनवर शऊर अनवर शऊर समकालीन
  • इफ़्तिख़ार आरिफ़ इफ़्तिख़ार आरिफ़ समकालीन
  • सईद अहमद अख़्तर सईद अहमद अख़्तर ससुर

"पेशावर" के और शायर

  • ताज सईद ताज सईद
  • रज़ा हमदानी रज़ा हमदानी
  • ख़ातिर ग़ज़नवी ख़ातिर ग़ज़नवी
  • शारिक़ जमाल शारिक़ जमाल
  • नरजिस अफ़रोज़ ज़ैदी नरजिस अफ़रोज़ ज़ैदी
  • नज़ीर तबस्सुम नज़ीर तबस्सुम
  • इसहाक़ विरदग इसहाक़ विरदग