Hafeez Jalandhari's Photo'

हफ़ीज़ जालंधरी

1900 - 1982 | लाहौर, पाकिस्तान

लोकप्रिय रूमानी शायर , मलिका पुखराज ने उनकी नज़्म ' अभी तो मैं जवान हूँ ' , को गा कर प्रसिध्दि दी। पाकिस्तान का राष्ट्रगान लिखा।

लोकप्रिय रूमानी शायर , मलिका पुखराज ने उनकी नज़्म ' अभी तो मैं जवान हूँ ' , को गा कर प्रसिध्दि दी। पाकिस्तान का राष्ट्रगान लिखा।

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
हास्य वीडियो

हफ़ीज़ जालंधरी

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
जवानी के तराने गा रहा हूँ

हफ़ीज़ जालंधरी

जहाँ क़तरे को तरसाया गया हूँ

हफ़ीज़ जालंधरी

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
अभी तो मैं जवान हूँ

हवा भी ख़ुश-गवार है अज्ञात

अभी तो मैं जवान हूँ

हवा भी ख़ुश-गवार है मलिका पुखराज

आ ही गया वो मुझ को लहद में उतारने

अज्ञात

कोई चारा नहीं दुआ के सिवा

पंकज उदास

हम ही में थी न कोई बात याद न तुम को आ सके

अमजद परवेज़

हम ही में थी न कोई बात याद न तुम को आ सके

मेहदी हसन

हास्य वीडियो

  • हफ़ीज़ जालंधरी

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

  • जवानी के तराने गा रहा हूँ

    जवानी के तराने गा रहा हूँ हफ़ीज़ जालंधरी

  • जहाँ क़तरे को तरसाया गया हूँ

    जहाँ क़तरे को तरसाया गया हूँ हफ़ीज़ जालंधरी

अन्य वीडियो

  • अभी तो मैं जवान हूँ

    अभी तो मैं जवान हूँ अज्ञात

  • अभी तो मैं जवान हूँ

    अभी तो मैं जवान हूँ मलिका पुखराज

  • आ ही गया वो मुझ को लहद में उतारने

    आ ही गया वो मुझ को लहद में उतारने अज्ञात

  • कोई चारा नहीं दुआ के सिवा

    कोई चारा नहीं दुआ के सिवा पंकज उदास

  • हम ही में थी न कोई बात याद न तुम को आ सके

    हम ही में थी न कोई बात याद न तुम को आ सके अमजद परवेज़

  • हम ही में थी न कोई बात याद न तुम को आ सके

    हम ही में थी न कोई बात याद न तुम को आ सके मेहदी हसन

Added to your favorites

Removed from your favorites