Hafeez Jalandhari's Photo'

हफ़ीज़ जालंधरी

1900 - 1982 | लाहौर, पाकिस्तान

लोकप्रिय रूमानी शायर , मलिका पुखराज ने उनकी नज़्म ' अभी तो मैं जवान हूँ ' , को गा कर प्रसिध्दि दी। पाकिस्तान का राष्ट्रगान लिखा।

लोकप्रिय रूमानी शायर , मलिका पुखराज ने उनकी नज़्म ' अभी तो मैं जवान हूँ ' , को गा कर प्रसिध्दि दी। पाकिस्तान का राष्ट्रगान लिखा।

ग़ज़ल 67

नज़्म 18

शेर 80

तन्हाई-ए-फ़िराक़ में उम्मीद बार-हा

गुम हो गई सुकूत के हंगामा-ज़ार में

दिल ने आँखों तक आने में इतना वक़्त लिया

दूर था कैसे ये बुत-ख़ाना अब मालूम हुआ

  • शेयर कीजिए

मुझ को सुना ख़िज़्र सिकंदर के फ़साने

मेरे लिए यकसाँ है फ़ना हो कि बक़ा हो

क़ितआ 20

ई-पुस्तक 44

Bahar Ke Phool

 

1940

Bazm Nahin Razm

 

1973

चराग़-ए-सहर

 

 

Hafeez Jalandhari Ka Fun

 

2007

Hafeez Jalandhari Ka Salam

 

 

हफ़ीज़ जालंधरी की शायरी

 

1983

हफ़ीज़ के गीत और नज़्में

 

1941

Haft Paikar

 

 

Hindustan Ke Pasban

 

 

Intikhab-e-Deewan-e-Hali

 

 

वीडियो 14

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
अभी तो मैं जवान हूँ

हवा भी ख़ुश-गवार है अज्ञात

अभी तो मैं जवान हूँ

हवा भी ख़ुश-गवार है मलिका पुखराज

आ ही गया वो मुझ को लहद में उतारने

अज्ञात

कोई चारा नहीं दुआ के सिवा

पंकज उदास

हम ही में थी न कोई बात याद न तुम को आ सके

अमजद परवेज़

हम ही में थी न कोई बात याद न तुम को आ सके

मेहदी हसन

ऑडियो 7

अभी तो मैं जवान हूँ

आख़िरी रात

'इक़बाल' के मज़ार पर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"लाहौर" के और शायर

  • अख़्तर शीरानी अख़्तर शीरानी
  • क़तील शिफ़ाई क़तील शिफ़ाई
  • मुनीर नियाज़ी मुनीर नियाज़ी
  • नासिर काज़मी नासिर काज़मी
  • हबीब जालिब हबीब जालिब
  • मोहम्मद हनीफ़ रामे मोहम्मद हनीफ़ रामे
  • सूफ़ी तबस्सुम सूफ़ी तबस्सुम
  • हरी चंद अख़्तर हरी चंद अख़्तर
  • मोहम्मद दीन तासीर मोहम्मद दीन तासीर
  • हाजी लक़ लक़ हाजी लक़ लक़

Added to your favorites

Removed from your favorites