aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
Amjad Islam Amjad's Photo'

अमजद इस्लाम अमजद

1944 - 2023 | लाहौर, पाकिस्तान

मशहूर शायर और पाकिस्तानी टीवी सीरियलों के प्रसिद्ध लेखक

मशहूर शायर और पाकिस्तानी टीवी सीरियलों के प्रसिद्ध लेखक

अमजद इस्लाम अमजद

ग़ज़ल 62

नज़्म 39

अशआर 64

कहाँ के रुकने थे रास्ते कहाँ मोड़ था उसे भूल जा

वो जो मिल गया उसे याद रख जो नहीं मिला उसे भूल जा

जिस तरफ़ तू है उधर होंगी सभी की नज़रें

ईद के चाँद का दीदार बहाना ही सही

  • शेयर कीजिए

जहाँ हो प्यार ग़लत-फ़हमियाँ भी होती हैं

सो बात बात पे यूँ दिल बुरा नहीं करते

उस के लहजे में बर्फ़ थी लेकिन

छू के देखा तो हाथ जलने लगे

बड़े सुकून से डूबे थे डूबने वाले

जो साहिलों पे खड़े थे बहुत पुकारे भी

क़ितआ 3

 

पुस्तकें 38

वीडियो 19

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

अमजद इस्लाम अमजद

अमजद इस्लाम अमजद

अमजद इस्लाम अमजद

Afsoon-e-intezar-e-tamanna hai aur kya

Amjad Islam Amjad is an Urdu Poet, Drama writer and lyricist from Pakistan. He has received many awards for his literary work and screenplay for TV, including pride of performance and Sitara-e-Imtiaz. Amjad Islam Amjad reciting his ghazal/nazm ar Rekhta Studio अमजद इस्लाम अमजद

Nazm " Ham log na the aise"

अमजद इस्लाम अमजद

Ojhal sahi nigaah se dooba nahi hu main

Amjad Islam Amjad is an Urdu Poet, Drama writer and lyricist from Pakistan. He has received many awards for his literary work and screenplay for TV, including pride of performance and Sitara-e-Imtiaz. Amjad Islam Amjad reciting his ghazal/nazm ar Rekhta Studio अमजद इस्लाम अमजद

Tumhe Mujhse mohabbat hai

Amjad Islam Amjad is an Urdu Poet, Drama writer and lyricist from Pakistan. He has received many awards for his literary work and screenplay for TV, including pride of performance and Sitara-e-Imtiaz. Amjad Islam Amjad reciting his ghazal/nazm ar Rekhta Studio. अमजद इस्लाम अमजद

Zara si baat

Amjad Islam Amjad is an Urdu Poet, Drama writer and lyricist from Pakistan. He has received many awards for his literary work and screenplay for TV, including pride of performance and Sitara-e-Imtiaz. Amjad Islam Amjad reciting his ghazal/nazm ar Rekhta Studio अमजद इस्लाम अमजद

कहाँ आ के रुकने थे रास्ते कहाँ मोड़ था उसे भूल जा

अमजद इस्लाम अमजद

ज़रा सी बात

ज़िंदगी के मैले में ख़्वाहिशों के रेले में अमजद इस्लाम अमजद

ज़रा सी बात

ज़िंदगी के मैले में ख़्वाहिशों के रेले में अमजद इस्लाम अमजद

जैसे मैं देखता हूँ लोग नहीं देखते हैं

अमजद इस्लाम अमजद

दिल के दरिया को किसी रोज़ उतर जाना है

अमजद इस्लाम अमजद

मोहब्बत की एक नज़्म

मोहब्बत की एक नज़्म अमजद इस्लाम अमजद

सेल्फ़ मेड लोगों का अलमिया

सेल्फ़ मेड लोगों का अलमिया अमजद इस्लाम अमजद

ऑडियो 13

अपने घर की खिड़की से मैं आसमान को देखूँगा

आईनों में अक्स न हों तो हैरत रहती है

उस ने आहिस्ता से जब पुकारा मुझे

Recitation

संबंधित शायर

"लाहौर" के और शायर

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए