ग़ज़ल 10

शेर 22

टूटें वो सर जिस में तेरी ज़ुल्फ़ का सौदा नहीं

फूटें वो आँखें कि जिन को दीद का लपका नहीं

  • शेयर कीजिए

या उस से जवाब-ए-ख़त लाना या क़ासिद इतना कह देना

बचने का नहीं बीमार तिरा इरशाद अगर कुछ भी हुआ

थोड़ी तकलीफ़ सही आने में

दो घड़ी बैठ के उठ जाइएगा

पुस्तकें 2

Chamanistan-e-Fasahat

 

1940

दीवान-ए-हक़ीर