हारिस बिलाल

ग़ज़ल 11

अशआर 15

फ़लक पे भीड़ लगी थी शिकस्ता आहों की

दुआ से पहले मुझे रास्ता बनाना पड़ा

  • शेयर कीजिए

कामयाबी की दुआएँ मुझे देने वाले

मैं तिरे इश्क़ में नाकाम हुआ जाता हूँ

  • शेयर कीजिए

तुम्हारी याद की शिद्दत में बहने वाला अश्क

ज़मीं में बो दिया जाए तो आँख उग आए

  • शेयर कीजिए

अच्छा तिरी नज़र में बहुत मुख़्तलिफ़ हूँ मैं

यानी तिरी नज़र में कोई दूसरा भी है

  • शेयर कीजिए

अँधेरी शब का सफ़र था हवा थी सहरा था

दिए को मैं ने बचाया था और दिए ने मुझे

  • शेयर कीजिए

"सरगोधा" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए