Ibn e Insha's Photo'

इब्न-ए-इंशा

1927 - 1978 | कराची, पाकिस्तान

पाकिस्तानी शायर , अपनी ग़ज़ल ' कल चौदहवीं की रात ' थी , के लिए प्रसिद्ध

पाकिस्तानी शायर , अपनी ग़ज़ल ' कल चौदहवीं की रात ' थी , के लिए प्रसिद्ध

इब्न-ए-इंशा के वीडियो

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

इब्न-ए-इंशा

इब्न-ए-इंशा

इब्न-ए-इंशा

कल चौदहवीं की रात थी शब भर रहा चर्चा तिरा

इब्न-ए-इंशा

दरवाज़ा खुला रखना

दिल दर्द की शिद्दत से ख़ूँ-गश्ता ओ सी-पारा इब्न-ए-इंशा

फ़र्ज़ करो

फ़र्ज़ करो हम अहल-ए-वफ़ा हों, फ़र्ज़ करो दीवाने हों इब्न-ए-इंशा

इस बस्ती के इक कूचे में

इस बस्ती के इक कूचे में इक 'इंशा' नाम का दीवाना इब्न-ए-इंशा

कुछ दे इसे रुख़्सत कर

कुछ दे इसे रुख़्सत कर क्यूँ आँख झुका ली है इब्न-ए-इंशा

जल्वा-नुमाई बे-परवाई हाँ यही रीत जहाँ की है

इब्न-ए-इंशा

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो

नईम सरमद

"Masla bachon ke namon ka" by Ibn-e-Insha.

"Masla bachon ke namon ka" by Ibn-e-Insha. ज़िया मोहीउद्दीन

Ibn e Insha - Bahadur Allah Ditta

Ibn e Insha - Bahadur Allah Ditta ज़िया मोहीउद्दीन

Ibn-e-Insha - ittefaq main barkat hai

Ibn-e-Insha - ittefaq main barkat hai ज़िया मोहीउद्दीन

Ibn-e-Insha (Faiz sahib pe Mazahiya khaka)

Ibn-e-Insha (Faiz sahib pe Mazahiya khaka) ज़िया मोहीउद्दीन

'इंशा'-जी उठो अब कूच करो इस शहर में जी को लगाना क्या

'इंशा'-जी उठो अब कूच करो इस शहर में जी को लगाना क्या अमानत अली ख़ान

'इंशा'-जी उठो अब कूच करो इस शहर में जी को लगाना क्या

'इंशा'-जी उठो अब कूच करो इस शहर में जी को लगाना क्या हामिद अली ख़ान

इस बस्ती के इक कूचे में

इस बस्ती के इक कूचे में अज्ञात

एक बार कहो तुम मेरी हो

एक बार कहो तुम मेरी हो अहमद जहांजेब

एक लड़का

एक लड़का अज्ञात

कल चौदहवीं की रात थी शब भर रहा चर्चा तिरा

कल चौदहवीं की रात थी शब भर रहा चर्चा तिरा मोहम्मद इफ़राहीम

देख हमारे माथे पर ये दश्त-ए-तलब की धूल मियाँ

देख हमारे माथे पर ये दश्त-ए-तलब की धूल मियाँ रेशमा

दिल इश्क़ में बे-पायाँ सौदा हो तो ऐसा हो

दिल इश्क़ में बे-पायाँ सौदा हो तो ऐसा हो आबिदा परवीन

फ़र्ज़ करो

फ़र्ज़ करो फ़हद

फ़र्ज़ करो

फ़र्ज़ करो अज्ञात

फ़र्ज़ करो

फ़र्ज़ करो छाया गांगुली

सब माया है

सब माया है सलमान अल्वी

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

अन्य वीडियो

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए