Ibn e Insha's Photo'

इब्न-ए-इंशा

1927 - 1978 | कराची, पाकिस्तान

पाकिस्तानी शायर , अपनी ग़ज़ल ' कल चौदहवीं की रात ' थी , के लिए प्रसिद्ध

पाकिस्तानी शायर , अपनी ग़ज़ल ' कल चौदहवीं की रात ' थी , के लिए प्रसिद्ध

इब्न-ए-इंशा के शेर

18.1K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

कल चौदहवीं की रात थी शब भर रहा चर्चा तिरा

कुछ ने कहा ये चाँद है कुछ ने कहा चेहरा तिरा

इक साल गया इक साल नया है आने को

पर वक़्त का अब भी होश नहीं दीवाने को

कब लौटा है बहता पानी बिछड़ा साजन रूठा दोस्त

हम ने उस को अपना जाना जब तक हाथ में दामाँ था

रात कर गुज़र भी जाती है

इक हमारी सहर नहीं होती

अपनी ज़बाँ से कुछ कहेंगे चुप ही रहेंगे आशिक़ लोग

तुम से तो इतना हो सकता है पूछो हाल बेचारों का

वो रातें चाँद के साथ गईं वो बातें चाँद के साथ गईं

अब सुख के सपने क्या देखें जब दुख का सूरज सर पर हो

दिल हिज्र के दर्द से बोझल है अब आन मिलो तो बेहतर हो

इस बात से हम को क्या मतलब ये कैसे हो ये क्यूँकर हो

हम भूल सके हैं तुझे भूल सकेंगे

तू याद रहेगा हमें हाँ याद रहेगा

'इंशा'-जी उठो अब कूच करो इस शहर में जी को लगाना क्या

वहशी को सुकूँ से क्या मतलब जोगी का नगर में ठिकाना क्या

हुस्न सब को ख़ुदा नहीं देता

हर किसी की नज़र नहीं होती

हम किसी दर पे ठिटके कहीं दस्तक दी

सैकड़ों दर थे मिरी जाँ तिरे दर से पहले

गर्म आँसू और ठंडी आहें मन में क्या क्या मौसम हैं

इस बग़िया के भेद खोलो सैर करो ख़ामोश रहो

कूचे को तेरे छोड़ कर जोगी ही बन जाएँ मगर

जंगल तिरे पर्बत तिरे बस्ती तिरी सहरा तिरा

एक से एक जुनूँ का मारा इस बस्ती में रहता है

एक हमीं हुशियार थे यारो एक हमीं बद-नाम हुए

अपने हमराह जो आते हो इधर से पहले

दश्त पड़ता है मियाँ इश्क़ में घर से पहले

इस शहर में किस से मिलें हम से तो छूटीं महफ़िलें

हर शख़्स तेरा नाम ले हर शख़्स दीवाना तिरा

बेकल बेकल रहते हो पर महफ़िल के आदाब के साथ

आँख चुरा कर देख भी लेते भोले भी बन जाते हो

कुछ कहने का वक़्त नहीं ये कुछ कहो ख़ामोश रहो

लोगो ख़ामोश रहो हाँ लोगो ख़ामोश रहो

'मीर' से बैअत की है तो 'इंशा' मीर की बैअत भी है ज़रूर

शाम को रो रो सुब्ह करो अब सुब्ह को रो रो शाम करो

आन के इस बीमार को देखे तुझ को भी तौफ़ीक़ हुई

लब पर उस के नाम था तेरा जब भी दर्द शदीद हुआ

यूँही तो नहीं दश्त में पहुँचे यूँही तो नहीं जोग लिया

बस्ती बस्ती काँटे देखे जंगल जंगल फूल मियाँ

एक दिन देखने को जाते

ये हवस उम्र भर नहीं होती

दीदा दिल ने दर्द की अपने बात भी की तो किस से की

वो तो दर्द का बानी ठहरा वो क्या दर्द बटाएगा

बे तेरे क्या वहशत हम को तुझ बिन कैसा सब्र सुकूँ

तू ही अपना शहर है जानी तू ही अपना सहरा है

जब शहर के लोग रस्ता दें क्यूँ बन में जा बिसराम करे

दीवानों की सी बात करे तो और करे दीवाना क्या

अहल-ए-वफ़ा से तर्क-ए-तअल्लुक़ कर लो पर इक बात कहें

कल तुम इन को याद करोगे कल तुम इन्हें पुकारोगे

हक़ अच्छा पर उस के लिए कोई और मिरे तो और अच्छा

तुम भी कोई मंसूर हो जो सूली पे चढ़ो ख़ामोश रहो

हम घूम चुके बस्ती बन में

इक आस की फाँस लिए मन में

वहशत-ए-दिल के ख़रीदार भी नापैद हुए

कौन अब इश्क़ के बाज़ार में खोलेगा दुकाँ

जल्वा-नुमाई बेपरवाई हाँ यही रीत जहाँ की है

कब कोई लड़की मन का दरीचा खोल के बाहर झाँकी है

सुन तो लिया किसी नार की ख़ातिर काटा कोह निकाली नहर

एक ज़रा से क़िस्से को अब देते क्यूँ हो तूल मियाँ

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए