noImage

इमरान-उल-हक़ चौहान

ग़ज़ल 8

शेर 7

ख़्वाब, उम्मीद, तमन्नाएँ, तअल्लुक़, रिश्ते

जान ले लेते हैं आख़िर ये सहारे सारे

क्या जाने शाख़-ए-वक़्त से किस वक़्त गिर पड़ूँ

मानिंद-ए-बर्ग-ए-ज़र्द अभी डोलता हूँ मैं

वक़्त हर ज़ख़्म को भर देता है कुछ भी कीजे

याद रह जाती है हल्की सी चुभन की हद तक