Inder Saraazi's Photo'

इंद्र सराज़ी

1990 | डोडा, भारत

इंद्र सराज़ी

ग़ज़ल 4

 

अशआर 17

दुख उदासी मलाल ग़म के सिवा

और भी है कोई मकान में क्या

  • शेयर कीजिए

सावन की इस रिम-झिम में

भीग रहा है तन्हा चाँद

  • शेयर कीजिए

जिस का डर था वही हुआ यारो

वो फ़क़त हम से ही ख़फ़ा निकला

  • शेयर कीजिए

बड़ी मुश्किल से बहलाया था ख़ुद को

अचानक याद तेरी गई फिर

  • शेयर कीजिए

कितना प्यारा लगता है

होता है जब पूरा चाँद

  • शेयर कीजिए

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए