जावेद सबा के शेर

5K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

मुझे तन्हाई की आदत है मेरी बात छोड़ें

ये लीजे आप का घर गया है हात छोड़ें

ये जो मिलाते फिरते हो तुम हर किसी से हाथ

ऐसा हो कि धोना पड़े ज़िंदगी से हाथ

ये कह के उस ने मुझे मख़मसे में डाल दिया

मिलाओ हाथ अगर वाक़ई मोहब्बत है

गुज़र रही थी ज़िंदगी गुज़र रही है ज़िंदगी

नशेब के बग़ैर भी फ़राज़ के बग़ैर भी

देखे थे जितने ख़्वाब ठिकाने लगा दिए

तुम ने तो आते आते ज़माने लगा दिए

एक ही फूल से सब फूलों की ख़ुश्बू आए

और ये जादू उसे आए जिसे उर्दू आए

उस ने आवारा-मिज़ाजी को नया मोड़ दिया

पा-ब-ज़ंजीर किया और मुझे छोड़ दिया

उस ने आँचल से निकाली मिरी गुम-गश्ता बयाज़

और चुपके से मोहब्बत का वरक़ मोड़ दिया

शाइरी कार-ए-जुनूँ है आप के बस की नहीं

वक़्त पर बिस्तर से उठिए वक़्त पर सो जाइए

आप से अब क्या छुपाना आप कोई ग़ैर हैं

हो चुका हूँ मैं किसी का आप भी हो जाइए

जाने वाले ने हमेशा की जुदाई दे कर

दिल को आँखों में धड़कने के लिए छोड़ दिया

तेरा मेरा कोई रिश्ता तो नहीं है लेकिन

मैं ने जो ख़्वाब में देखा है कोई देख ले

बे-ख़ुदी सलाम तुझे तेरा शुक्रिया

दुनिया भी मस्त मस्त है उक़्बा भी मस्त मस्त

वहशत का ये आलम कि पस-ए-चाक गरेबाँ

रंजिश है बहारों से उलझते हैं ख़िज़ाँ से

ये जो महफ़िल में मिरे नाम से मौजूद हूँ मैं

मैं नहीं हूँ मिरा धोका है कोई देख ले

डर रहा हूँ कि सर-ए-शाम तिरी आँखों में

मैं ने जो वक़्त गुज़ारा है कोई देख ले

मद्धम मद्धम साँस की ख़ुश-बू मीठे मीठे दर्द की आँच

रह रह के करती है बेकल और मैं लिखता जाता हूँ

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI