noImage

कैफ़ी संभली

मुरादाबाद, भारत

नज़्म 1

 

शेर 1

हवा चली तो कोई नक़्श-ए-मोतबर बचा

कोई दिया कोई बादल कोई शजर बचा

  • शेयर कीजिए
 

संबंधित शायर

  • अमीर इमाम अमीर इमाम बेटा

"मुरादाबाद" के और शायर

  • बशीर बद्र बशीर बद्र
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • जमीला ख़ुदा बख़्श जमीला ख़ुदा बख़्श
  • नसीम देहलवी नसीम देहलवी
  • सय्यद यूसुफ़ अली खाँ नाज़िम सय्यद यूसुफ़ अली खाँ नाज़िम
  • ज़ाकिर ख़ान ज़ाकिर ज़ाकिर ख़ान ज़ाकिर
  • रशीद लखनवी रशीद लखनवी
  • क़ुर्बान अली सालिक बेग क़ुर्बान अली सालिक बेग
  • सिराज फ़ैसल ख़ान सिराज फ़ैसल ख़ान
  • हकीम आग़ा जान ऐश हकीम आग़ा जान ऐश