noImage

महमूद रामपुरी

1865 - 1934 | रामपुर, भारत

महमूद रामपुरी के शेर

मौत उस की है करे जिस का ज़माना अफ़्सोस

यूँ तो दुनिया में सभी आए हैं मरने के लिए