Manzar Bhopali's Photo'

मंज़र भोपाली

1959 | भोपाल, भारत

819
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

आँख भर आई किसी से जो मुलाक़ात हुई

ख़ुश्क मौसम था मगर टूट के बरसात हुई

बाप बोझ ढोता था क्या जहेज़ दे पाता

इस लिए वो शहज़ादी आज तक कुँवारी है

अब समझ लेते हैं मीठे लफ़्ज़ की कड़वाहटें

हो गया है ज़िंदगी का तजरबा थोड़ा बहुत

आप ही की है अदालत आप ही मुंसिफ़ भी हैं

ये तो कहिए आप के ऐब-ओ-हुनर देखेगा कौन

सफ़र के बीच ये कैसा बदल गया मौसम

कि फिर किसी ने किसी की तरफ़ नहीं देखा

ये किरदारों के गंदे आइने अपने ही घर रखिए

यहाँ पर कौन कितना पारसा है हम समझते हैं

आँधियाँ ज़ोर दिखाएँ भी तो क्या होता है

गुल खिलाने का हुनर बाद-ए-सबा जानती है

इधर तो दर्द का प्याला छलकने वाला है

मगर वो कहते हैं ये दास्तान कुछ कम है

ख़ुद को पोशीदा रक्खो बंद कलियों की तरह

फूल कहते हैं तुम्हें सब लोग तो महका करो

हमारे दिल पे जो ज़ख़्मों का बाब लिक्खा है

इसी में वक़्त का सारा हिसाब लिक्खा है

कोई तख़्लीक़ हो ख़ून-ए-जिगर से जन्म लेती है

कहानी लिख नहीं सकते कहानी माँगने वाले

इक मकाँ और बुलंदी पे बनाने दिया

हम को पर्वाज़ का मौक़ा ही हवा ने दिया

दिन भी डूबा कि नहीं ये मुझे मालूम नहीं

जिस जगह बुझ गए आँखों के दिए रात हुई

इन आँसुओं का कोई क़द्र-दान मिल जाए

कि हम भी 'मीर' का दीवान ले के आए हैं

जो पारसा हो तो क्यूँ इम्तिहाँ से डरते हो

हम ए'तिबार का मीज़ान ले के आए हैं

ये अश्क तेरे मिरे राएगाँ जाएँगे

उन्हीं चराग़ों से रौशन मोहब्बतें होंगी

कमानों में खिंचे हैं तीर तलवारें हैं चमकी

ज़रा ठहरो कहाँ जाते हो दरिया देखने को

उन्हीं पे सारे मसाइब का बोझ रक्खा है

जो तेरे शहर में ईमान ले के आए हैं