Masoom Sharqi's Photo'

मासूम शर्क़ी

1948 | कोलकाता, भारत

ग़ज़ल 3

 

शेर 1

'मासूम' अजब है हाल-ए-चमन हर शोले का यहाँ बदला है चलन

शाख़ों को जलाया जाता है ताइर को सताया जाता है

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 3

Aks Taab

 

2009

नज़ीर-ए-सानी: अश्क अमृतसरी

तारुफ़, तन्क़ीद और तदवीन-ए-कलाम

2012

नज़ीर सानी: अशक अमरितसरी

तअारुफ़, तंक़ीद और तदवीन-ए-कलाम

2012

 

"कोलकाता" के और शायर

  • वहशत रज़ा अली कलकत्वी वहशत रज़ा अली कलकत्वी
  • जमील मज़हरी जमील मज़हरी
  • एज़ाज़ अफ़ज़ल एज़ाज़ अफ़ज़ल
  • अब्बास अली ख़ान बेखुद अब्बास अली ख़ान बेखुद
  • शहनाज़ नबी शहनाज़ नबी
  • फ़राग़ रोहवी फ़राग़ रोहवी
  • अमीर रज़ा मज़हरी अमीर रज़ा मज़हरी
  • यूसुफ़ तक़ी यूसुफ़ तक़ी
  • जुर्म मुहम्मदाबादी जुर्म मुहम्मदाबादी
  • इमाम अाज़म इमाम अाज़म