Nafas Ambalvi's Photo'

नफ़स अम्बालवी

1961 | अमबाला, भारत

1.2K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

उसे गुमाँ है कि मेरी उड़ान कुछ कम है

मुझे यक़ीं है कि ये आसमान कुछ कम है

हमारी राह से पत्थर उठा कर फेंक मत देना

लगी हैं ठोकरें तब जा के चलना सीख पाए हैं

सुना है वो भी मिरे क़त्ल में मुलव्विस है

वो बेवफ़ा है मगर इतना बेवफ़ा भी नहीं

अब उन की ख़्वाब-गाहों में कोई आवाज़ मत करना

बहुत थक-हार कर फ़ुटपाथ पर मज़दूर सोए हैं

इंकार कर रहा हूँ तो क़ीमत बुलंद है

बिकने पे गया तो गिरा देंगे दाम लोग

तारीकियाँ क़ुबूल थीं मुझ को तमाम उम्र

लेकिन मैं जुगनुओं की ख़ुशामद कर सका

उठा लाया किताबों से वो इक अल्फ़ाज़ का जंगल

सुना है अब मिरी ख़ामोशियों का तर्जुमा होगा

मरने को मर भी जाऊँ कोई मसअला नहीं

लेकिन ये तय तो हो कि अभी जी रहा हूँ मैं

तू दरिया है तो होगा हाँ मगर इतना समझ लेना

तिरे जैसे कई दरिया मिरी आँखों में रहते हैं

सारी गवाहियाँ तो मिरे हक़ में गईं

लेकिन मिरा बयान ही मेरे ख़िलाफ़ था

हमें दुनिया फ़क़त काग़ज़ का इक टुकड़ा समझती है

पतंगों में अगर ढल जाएँ हम तो आसमाँ छू लें

ये इश्क़ के ख़ुतूत भी कितने अजीब हैं

आँखें वो पढ़ रही हैं जो तहरीर भी नहीं

ज़िंदगी वक़्त के सफ़्हों में निहाँ है साहब

ये ग़ज़ल सिर्फ़ किताबों में नहीं मिलती है

ज़ख़्म अभी तक ताज़ा हैं हर दाग़ सुलगता रहता है

सीने में इक जलियाँ-वाला-बाग़ सुलगता रहता है

अपने दराज़-क़द पे बहुत नाज़ था जिन्हें

वो पेड़ आँधियों में ज़मीं से उखड़ गए

मिरे ख़याल की पर्वाज़ बस तुम्हीं तक थी

फिर इस के बा'द मुझे कोई आसमाँ मिला

वो भीड़ में खड़ा है जो पत्थर लिए हुए

कल तक मिरा ख़ुदा था मुझे इतना याद है

अब कहाँ तक पत्थरों की बंदगी करता फिरूँ

दिल से जिस दम भी पुकारूँगा ख़ुदा मिल जाएगा

इस शहर में ख़्वाबों की इमारत नहीं बनती

बेहतर है कि ता'मीर का नक़्शा ही बदल लो

अब तक तो इस सफ़र में फ़क़त तिश्नगी मिली

सुनते थे रास्ते में समुंदर भी आएगा

मिलते हैं मुस्कुरा के अगरचे तमाम लोग

मर मर के जी रहे हैं मगर सुब्ह-ओ-शाम लोग

हमारी ज़िंदगी जैसे कोई शब भर का जल्सा है

सहर होते ही ख़्वाबों के घरौंदे टूट जाते हैं

जब भी उस दीवार से मिलता हूँ रो पड़ता हूँ मैं

कुछ कुछ तो है यक़ीनन उस में पत्थर से अलग

निगाहों के मनाज़िर बे-सबब धुंधले नहीं पड़ते

हमारी आँख में दरिया कोई ठहरा हुआ होगा