Rahi Fidai's Photo'

राही फ़िदाई

1949 | बैंगलोर, भारत

ग़ज़ल 12

शेर 10

हर एक शाख़ थी लर्ज़ां फ़ज़ा में चीख़-ओ-पुकार

हवा के हाथ में इक आब-दार ख़ंजर था

  • शेयर कीजिए

लज़्ज़त का ज़हर वक़्त-ए-सहर छोड़ कर कोई

शब के तमाम रिश्ते फ़रामोश कर गया

  • शेयर कीजिए

किसी को साया किसी को गुल-ओ-समर देगा

हरा-भरा है दरख़्त-ए-रिवाज रहने दो

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 14

Anamil

 

1987

Auraq-e-Jawedan

 

1994

अय्युहन्नास

 

1998

Fabiha : Kulliyat-e-Ghazal

 

2008

Gunj-e-Shayegan

Kulliyat-e-Qasaid

2016

Iktisab-e-Nazar

 

1991

इस्तेजाब

 

2012

Istidraak

 

2011

Kadapa Mein Urdu

 

1992

लहजे

 

1974

"बैंगलोर" के और शायर

  • अरशद अब्दुल हमीद अरशद अब्दुल हमीद
  • अबुल हसनात हक़्क़ी अबुल हसनात हक़्क़ी
  • वाली आसी वाली आसी
  • ख़ुर्शीद तलब ख़ुर्शीद तलब
  • शोएब निज़ाम शोएब निज़ाम
  • अख़्तर पयामी अख़्तर पयामी
  • असलम महमूद असलम महमूद
  • अहमद शनास अहमद शनास
  • रशीद कौसर फ़ारूक़ी रशीद कौसर फ़ारूक़ी
  • फ़रहान सालिम फ़रहान सालिम