Khaleel Mamoon's Photo'

ख़लील मामून

1949 | बैंगलोर, भारत

प्रमुख उत्तर-आधुनिक शायर

प्रमुख उत्तर-आधुनिक शायर

ग़ज़ल 24

नज़्म 7

शेर 27

ऐसा हो ज़िंदगी में कोई ख़्वाब ही हो

अँधियारी रात में कोई महताब ही हो

हर एक काम है धोका हर एक काम है खेल

कि ज़िंदगी में तमाशा बहुत ज़रूरी है

  • शेयर कीजिए

मेरी तरह से ये भी सताया हुआ है क्या

क्यूँ इतने दाग़ दिखते हैं महताब में अभी

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 17

Aafaaq Ki Taraf

 

2007

बनबास का झूट

 

2011

जिस्म-ओ-जाँ से दूर

 

2010

Kannad Adab

 

1994

La Ilah

 

2018

Lahu Ki Dhoop

 

2009

Lisan : Falsafe Ke Aaine Mein

 

1988

Mahmood Ayaz : Ek Guftagu

 

2009

Nishat-e-Gham

 

2003

सांसों के पार

 

2015

"बैंगलोर" के और शायर

  • महमूद अयाज़ महमूद अयाज़
  • राही फ़िदाई राही फ़िदाई
  • हमीद अलमास हमीद अलमास
  • शाइस्ता यूसुफ़ शाइस्ता यूसुफ़
  • ग़ुफ़रान अमजद ग़ुफ़रान अमजद
  • मोहम्मद आज़म मोहम्मद आज़म
  • सरदार अयाग़ सरदार अयाग़
  • ज़ाकिरा शबनम ज़ाकिरा शबनम