Khaleel Mamoon's Photo'

ख़लील मामून

1949 | बैंगलोर, भारत

प्रमुख उत्तर-आधुनिक शायर

प्रमुख उत्तर-आधुनिक शायर

285
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

हर एक काम है धोका हर एक काम है खेल

कि ज़िंदगी में तमाशा बहुत ज़रूरी है

ऐसा हो ज़िंदगी में कोई ख़्वाब ही हो

अँधियारी रात में कोई महताब ही हो

मेरी तरह से ये भी सताया हुआ है क्या

क्यूँ इतने दाग़ दिखते हैं महताब में अभी

ऐसे मर जाएँ कोई नक़्श छोड़ें अपना

याद दिल में हो अख़बार में तस्वीर हो

तुम नहीं आओगे ख़बर है हमें

फिर भी हम इंतिज़ार कर लेंगे

मुझे पहुँचना है बस अपने-आप की हद तक

मैं अपनी ज़ात को मंज़िल बना के चलता हूँ

शायद अपना पता भी मिल जाए

झाँकता हूँ तिरी निगाहों में

दर्द के सहारे कब तलक चलेंगे

साँस रुक रही है फ़ासला बड़ा है

दिल में उमंग और इरादा कोई तो हो

बे-कैफ़ ज़िंदगी में तमाशा कोई तो हो

तेरी क्या ये हालत हो गई है 'मामून'

ख़ुद ही कह रहा है ख़ुद ही सुन रहा है

मुझे तो इश्क़ है फूलों में सिर्फ़ ख़ुशबू से

बुला रही है किसी लाला की महक मुझ को

चलना लिखा है अपने मुक़द्दर में उम्र भर

मंज़िल हमारी दर्द की राहों में गुम हुई

सर्फ़ चेहरा ही नज़र आता है आईने में

अक्स-ए-आईना नहीं दिखता है आईने में

फ़तह के जश्न में हैं सब सरशार

मैं तो अपनी ही मात में गुम हूँ

जंगलों में कहीं खो जाना है

जानवर फिर मुझे हो जाना है

लफ़्ज़ों का ख़ज़ाना भी कभी काम आए

बैठे रहें लिखने को तिरा नाम आए

तुम हो खोए हुए ज़माने में

मैं ख़ुद अपनी ही ज़ात में गुम हूँ

जवाब ढूँड के सारे जहाँ से जब लौटे

हमें तो कर गया यक-लख़्त ला-जवाब कोई

मिरा वजूद अदम भी इक हादसा नया है

मैं दफ़्न हूँ कहीं कहीं से निकल रहा हूँ

मैं मंज़िलों से बहुत दूर गया 'मामून'

सफ़र ने खो दिए सारे निशाँ तुम्हारी तरफ़

जो नूर भरते थे ज़ुल्मात-ए-शब के सहरा में

वो चाँद तारे फ़लक से उतर गए शायद

हर एक जगह भटकते फिरेंगे सारी उम्र

बिल-आख़िर अपने ही घर जाएँगे किसी दिन हम

रफ़्तार-ए-रोज़-ओ-शब से कहाँ तक निभाऊँगा

थक-हार कर मैं घर की तरफ़ लौट जाऊँगा

मसरूफ़-ए-ग़म हैं कौन-ओ-मकाँ जागते रहो

ख़्वाबों से उठ रहा है धुआँ जागते रहो

सब लोग हमें एक नज़र आते हैं

अंदाज़ा नहीं होता है अब चेहरों का

वो बुराई सब से मेरी कर रहे हैं

क्यूँ नहीं करते बयाँ अच्छाइयों को

हज़ारों चाँद सितारे चमक गए होते

कभी नज़र जो तिरी माइल-ए-करम होती