noImage

रासिख़ अज़ीमाबादी

1757 - 1823 | पटना, भारत

ग़ज़ल

ग़फ़लत में कटी उम्र न हुश्यार हुए हम

फ़सीह अकमल

तुम्हें ऐसा बे-रहम जाना न था

फ़सीह अकमल

दिल ज़ुल्फ़-ए-बुताँ में है गिरफ़्तार हमारा

फ़सीह अकमल

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI