रज़ी रज़ीउद्दीन

ग़ज़ल 11

नज़्म 4

 

अशआर 14

उस का जल्वा दिखाई देता है

सारे चेहरों पे सब किताबों में

नश्शा-ए-यार का नशा मत पूछ

ऐसी मस्ती कहाँ शराबों में

तमाम रात तिरा इंतिज़ार होता रहा

ये एक काम यही कारोबार होता रहा

  • शेयर कीजिए

इस अँधेरे में जलते चाँद चराग़

रखते किस किस का वो भरम होंगे

ये ज़ुल्फ़-ए-यार भी क्या बिजलियों का झुरमुट है

ख़ुदाया ख़ैर हो अब मेरे आशियाने की

  • शेयर कीजिए

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए