Riyaz Khairabadi's Photo'

रियाज़ ख़ैराबादी

1853 - 1934 | ख़ैराबाद, भारत

शराब पर शायरी के लिए प्रसिध्द , जब कि कहा जाता है कि उन्हों ने शराब को कभी हाथ नहीं लगाया।

शराब पर शायरी के लिए प्रसिध्द , जब कि कहा जाता है कि उन्हों ने शराब को कभी हाथ नहीं लगाया।

रियाज़ ख़ैराबादी के शेर

7.6K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

दिल-जलों से दिल-लगी अच्छी नहीं

रोने वालों से हँसी अच्छी नहीं

मेहंदी लगाए बैठे हैं कुछ इस अदा से वो

मुट्ठी में उन की दे दे कोई दिल निकाल के

मय-ख़ाने में क्यूँ याद-ए-ख़ुदा होती है अक्सर

मस्जिद में तो ज़िक्र-ए-मय-ओ-मीना नहीं होता

बच जाए जवानी में जो दुनिया की हवा से

होता है फ़रिश्ता कोई इंसाँ नहीं होता

अच्छी पी ली ख़राब पी ली

जैसी पाई शराब पी ली

देखिएगा सँभल कर आईना

सामना आज है मुक़ाबिल का

ग़म मुझे देते हो औरों की ख़ुशी के वास्ते

क्यूँ बुरे बनते हो तुम नाहक़ किसी के वास्ते

घर में दस हों तो ये रौनक़ नहीं होगी घर में

एक दीवाने से आबाद है सहरा कैसा

अल्लाह-रे नाज़ुकी कि जवाब-ए-सलाम में

हाथ उस का उठ के रह गया मेहंदी के बोझ से

मय-ख़ाने में मज़ार हमारा अगर बना

दुनिया यही कहेगी कि जन्नत में घर बना

इतनी पी है कि ब'अद-ए-तौबा भी

बे-पिए बे-ख़ुदी सी रहती है

भर भर के जाम बज़्म में छलकाए जाते हैं

हम उन में हैं जो दूर से तरसाए जाते हैं

मुफ़लिसों की ज़िंदगी का ज़िक्र क्या

मुफ़्लिसी की मौत भी अच्छी नहीं

रोते जो आए थे रुला के गए

इब्तिदा इंतिहा को रोते हैं

ऐसी ही इंतिज़ार में लज़्ज़त अगर हो

तो दो घड़ी फ़िराक़ में अपनी बसर हो

धोके से पिला दी थी उसे भी कोई दो घूँट

पहले से बहुत नर्म है वाइज़ की ज़बाँ अब

दर्द हो तो दवा करे कोई

मौत ही हो तो क्या करे कोई

आप आए तो ख़याल-ए-दिल-ए-नाशाद आया

आप ने याद दिलाया तो मुझे याद आया

हमारी आँखों में आओ तो हम दिखाएँ तुम्हें

अदा तुम्हारी जो तुम भी कहो कि हाँ कुछ है

मर गए फिर भी तअल्लुक़ है ये मय-ख़ाने से

मेरे हिस्से की छलक जाती है पैमाने से

बात दिल की ज़बान पर आई

आफ़त अब मेरी जान पर आई

आगे कुछ बढ़ कर मिलेगी मस्जिद-ए-जामे 'रियाज़'

इक ज़रा मुड़ जाइएगा मय-कदे के दर से आप

वो पूछते हैं शौक़ तुझे है विसाल का

मुँह चूम लूँ जवाब ये है इस सवाल का

मेरे आग़ोश में यूँही कभी जा तू भी

जिस अदा से तिरी आँखों में हया आई है

कुछ भी हो 'रियाज़' आँख में आँसू नहीं आते

मुझ को तो किसी बात का अब ग़म नहीं होता

डर है दुपट्टा कहीं सीने से सरक जाए

पंखा भी हमें पास से झलने नहीं देते

डराता है हमें महशर से तू वाइज़ अरे जा भी

ये हंगामे तो हम ने रोज़ कू-ए-यार में देखे

सुना है 'रियाज़' अपनी दाढ़ी बढ़ा कर

बुढ़ापे में अल्लाह वाले हुए हैं

ख़्वाब में भी तो नज़र भर के देखा उन को

ये भी आदाब-ए-मोहब्बत को गवारा हुआ

ग़ुरूर भी जो करूँ मैं तो आजिज़ी हो जाए

ख़ुदी में लुत्फ़ वो आए कि बे-ख़ुदी हो जाए

क्या मज़ा देती है बिजली की चमक मुझ को 'रियाज़'

मुझ से लिपटे हैं मिरे नाम से डरने वाले

जाम है तौबा-शिकन तौबा मिरी जाम-शिकन

सामने ढेर हैं टूटे हुए पैमानों के

हम बंद किए आँख तसव्वुर में पड़े हैं

ऐसे में कोई छम से जो जाए तो क्या हो

आफ़त हमारी जान को है बे-क़रार दिल

ये हाल है कि सीने में जैसे हज़ार दिल

किसी का हंस के कहना मौत क्यूँ आने लगी तुम को

ये जितने चाहने वाले हैं सब बे-मौत मरते हैं

क्या शक्ल है वस्ल में किसी की

तस्वीर हैं अपनी बेबसी की

आबाद करें बादा-कश अल्लाह का घर आज

दिन जुमअ' का है बंद है मय-ख़ाने का दर आज

कोई मुँह चूम लेगा इस नहीं पर

शिकन रह जाएगी यूँही जबीं पर

पाऊँ तो इन हसीनों का मुँह चूम लूँ 'रियाज़'

आज इन की गालियों ने बड़ा ही मज़ा दिया

क़द्र मुझ रिंद की तुझ को नहीं पीर-ए-मुग़ाँ

तौबा कर लूँ तो कभी मय-कदा आबाद हो

क्या शराब-ए-नाब ने पस्ती से पाया है उरूज

सर चढ़ी है हल्क़ से नीचे उतर जाने के ब'अद

ख़ुदा के हाथ है बिकना बिकना मय का साक़ी

बराबर मस्जिद-ए-जामे के हम ने अब दुकाँ रख दी

जाने वाले हम उस कूचे में आने वाले

अच्छे आए हमें दीवाना बनाने वाले

वस्ल की रात के सिवा कोई शाम

साथ ले कर सहर नहीं आती

हम जानते हैं लुत्फ़-ए-तक़ाज़ा-ए-मय-फ़रोश

वो नक़्द में कहाँ जो मज़ा है उधार में

अहल-ए-हरम से कह दो कि बिगड़ी नहीं है बात

सब रिंद जानते हैं अभी पारसा मुझे

कहती है 'रियाज़' दराज़ी ये रीश की

टट्टी की आड़ में है मज़ा कुछ शिकार का

मर गया हूँ पे तअ'ल्लुक़ है ये मय-ख़ाने से

मेरे हिस्से की छलक जाती है पैमाने से

हम जाम-ए-मय के भी लब-ए-तर चूसते नहीं

चसका पड़ा हुआ है तुम्हारी ज़बान का

बे-अब्र रिंद पीते नहीं वाइ'ज़ो शराब

करते हैं ये गुनाह भी रहमत के ज़ोर पर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए