Sahir Dehlavi's Photo'

साहिर देहल्वी

1863 - 1962 | दिल्ली, भारत

पंडित अमरनाथ साहिर दिल्ली में कश्मीरी पंडित समुदाय के प्रमुख कवियों में एक महत्वपूर्ण नाम। अपनी रचनाओं में सूफ़ीवाद और वेदांत रहस्यवाद के संयोजन के लिए चर्चित।

पंडित अमरनाथ साहिर दिल्ली में कश्मीरी पंडित समुदाय के प्रमुख कवियों में एक महत्वपूर्ण नाम। अपनी रचनाओं में सूफ़ीवाद और वेदांत रहस्यवाद के संयोजन के लिए चर्चित।

69
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

शेर क्या है आह है या वाह है

जिस से हर दिल की उभर आती है चोट

यूँ तो हर दीन में है साहब-ए-ईमाँ होना

हम को इक बुत ने सिखाया है मुसलमाँ होना

मिल-मिला के दोनों ने दिल को कर दिया बरबाद

हुस्न ने किया बे-ख़ुद इश्क़ ने किया आज़ाद

अज़ल से हम-नफ़सी है जो जान-ए-जाँ से हमें

पयाम दम-ब-दम आता है ला-मकाँ से हमें

नक़्श-ए-क़दम हैं राह में फ़रहाद-ओ-क़ैस के

इश्क़ खींच कर मुझे लाया इधर कहाँ

मैं दीवाना हूँ और दैर-ओ-हरम से मुझ को वहशत है

पड़ी रहने दो मेरे पाँव में ज़ंजीर-ए-मय-ख़ाना

जो ला-मज़हब हो उस को मिल्लत-ओ-मशरब से क्या मतलब

मिरा मशरब है रिंदी रिंद को मज़हब से क्या मतलब

अहद-ए-मीसाक़ का लाज़िम है अदब वाइ'ज़

है ये पैमान-ए-वफ़ा रिश्ता-ए-ज़ुन्नार तोड़

हम गदा-ए-दर-ए-मय-ख़ाना हैं पीर-ए-मुग़ाँ

काम अपना तिरे सदक़े में चला लेते हैं

पाबंदी-ए-अहकाम-ए-शरीअत है वहाँ फ़र्ज़

रिंदों को रुख़-ए-साक़ी-ओ-साग़र हुए मख़्सूस

क्या शौक़ का आलम था कि हाथों से उड़ा ख़त

दिल थाम के उस शोख़ को लिखने जो लगा ख़त

परी-रू तिरे दीवाने का ईमाँ क्या है

इक निगाह-ए-ग़लत-अंदाज़ पे क़ुर्बां होना

वा होते हैं मस्ती में ख़राबात के असरार

रिंदी मिरा ईमान है मस्ती है मिरा फ़र्ज़

था अनल-हक़ लब-ए-मंसूर पे क्या आप से आप

था जो पर्दे में छुपा बोल उठा आप से आप

बे-निशाँ साहिर निशाँ में के शायद बन गया

ला-मकाँ हो कर मकाँ में ख़ुद मकीं होता रहा

है सनम-ख़ाना मिरा पैमान-ए-इश्क़

ज़ौक़-ए-मय-ख़ाना मुझे सामान-ए-इश्क़

क़दम है ऐन हुदूस और हुदूस ऐन क़दम

जो तू जल्वे में आता तो मैं कहाँ होता

किताब-ए-दर्स-ए-मजनूँ मुसहफ़-रुख़्सार-ए-लैला है

हरीफ़-ए-नुक्ता-दान-ए-इश्क़ को मकतब से क्या मतलब

आते हुए इस तन में जाते हुए तन से

है जान-ए-मकीं को लगावट रुकावट

कौनैन-ए-ऐन-ए-इल्म में है जल्वा-गाह-ए-हुस्न

जेब-ए-ख़िरद से ऐनक-ए-इरफ़ाँ निकालिए

ग़म-ए-मौजूद ग़लत और ग़म-ए-फ़र्दा बातिल

राहत इक ख़्वाब है जिस की कोई ताबीर नहीं

क़ुल्ज़ुम-ए-फ़िक्र में है कश्ती-ए-ईमाँ सालिम

ना-ख़ुदा हुस्न है और इश्क़ है लंगर अपना

अयाँ 'अलीम' से है जिस्म-ओ-जान का इल्हाक़

मकीं मकाँ में होता तो ला-मकाँ होता