Sahir Ludhianvi's Photo'

साहिर लुधियानवी

1921 - 1980 | मुंबई, भारत

अग्रणी प्रगतिशील शायरों में शामिल। मशहूर फ़िल्म गीतकार

अग्रणी प्रगतिशील शायरों में शामिल। मशहूर फ़िल्म गीतकार

ग़ज़ल

तुम अपना रंज-ओ-ग़म अपनी परेशानी मुझे दे दो

फ़हद हुसैन

दूर रह कर न करो बात क़रीब आ जाओ

फ़हद हुसैन

अक़ाएद वहम हैं मज़हब ख़याल-ए-ख़ाम है साक़ी

नोमान शौक़

अब आएँ या न आएँ इधर पूछते चलो

नोमान शौक़

इस तरफ़ से गुज़रे थे क़ाफ़िले बहारों के

नोमान शौक़

क्या जानें तिरी उम्मत किस हाल को पहुँचेगी

नोमान शौक़

चेहरे पे ख़ुशी छा जाती है आँखों में सुरूर आ जाता है

नोमान शौक़

जब कभी उन की तवज्जोह में कमी पाई गई

नोमान शौक़

तंग आ चुके हैं कशमकश-ए-ज़िंदगी से हम

नोमान शौक़

तरब-ज़ारों पे क्या बीती सनम-ख़ानों पे क्या गुज़री

नोमान शौक़

तिरी दुनिया में जीने से तो बेहतर है कि मर जाएँ

नोमान शौक़

तोड़ लेंगे हर इक शय से रिश्ता तोड़ देने की नौबत तो आए

नोमान शौक़

देखा तो था यूँही किसी ग़फ़लत-शिआर ने

नोमान शौक़

नफ़स के लोच में रम ही नहीं कुछ और भी है

नोमान शौक़

भड़का रहे हैं आग लब-ए-नग़्मागर से हम

नोमान शौक़

मैं ज़िंदा हूँ ये मुश्तहर कीजिए

नोमान शौक़

ये ज़ुल्फ़ अगर खुल के बिखर जाए तो अच्छा

नोमान शौक़

लब पे पाबंदी तो है एहसास पर पहरा तो है

नोमान शौक़

सज़ा का हाल सुनाएँ जज़ा की बात करें

नोमान शौक़

हर-चंद मिरी क़ुव्वत-ए-गुफ़्तार है महबूस

नोमान शौक़

हवस-नसीब नज़र को कहीं क़रार नहीं

नोमान शौक़

नज़्म

26 जनवरी

नोमान शौक़

आवाज़-ए-आदम

जावेद नसीम

ऐ शरीफ़ इंसानो

नोमान शौक़

कभी कभी

हमीदा बानो

जश्न-ए-ग़ालिब

नोमान शौक़

तेरी आवाज़

हमीदा बानो

ताज-महल

नोमान शौक़

ताज-महल

हमीदा बानो

फ़नकार

हमीदा बानो

मता-ए-ग़ैर

हमीदा बानो

मेरे गीत तुम्हारे हैं

हमीदा बानो

मिरे गीत

हमीदा बानो

शेर

चंद कलियाँ नशात की चुन कर मुद्दतों महव-ए-यास रहता हूँ

हमीदा बानो

दुनिया ने तजरबात ओ हवादिस की शक्ल में

हमीदा बानो

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI