Saleem Ahmed's Photo'

सलीम अहमद

1927 - 1983 | कराची, पाकिस्तान

पाकिस्तान के प्रमुखतम आलोचकों में विख्यात/ऐंटी-गज़ल रूझान और आधुनिकता-विरोधी विचारों के लिए प्रसिद्ध

पाकिस्तान के प्रमुखतम आलोचकों में विख्यात/ऐंटी-गज़ल रूझान और आधुनिकता-विरोधी विचारों के लिए प्रसिद्ध

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

सलीम अहमद

सलीम अहमद

सलीम अहमद

titli ne kaha tha mashrik mashrik hai

सलीम अहमद

दिलों में दर्द भरता आँख में गौहर बनाता हूँ

सलीम अहमद

जाने किसी ने क्या कहा तेज़ हवा के शोर में

सलीम अहमद

जाने किसी ने क्या कहा तेज़ हवा के शोर में

सलीम अहमद

तिरे साँचे में ढलता जा रहा हूँ

सलीम अहमद

दिल के अंदर दर्द आँखों में नमी बन जाइए

सलीम अहमद

दिल हुस्न को दान दे रहा हूँ

सलीम अहमद

मैं सर छुपाऊँ कहाँ साया-ए-नज़र के बग़ैर

सलीम अहमद

मैं सर छुपाऊँ कहाँ साया-ए-नज़र के बग़ैर

सलीम अहमद

मेरा दुश्मन

उस ने जो ज़र्ब लगाई मुझे भरपूर लगी सलीम अहमद

मशरिक़ हार गया

'किपलिंग' ने कहा था सलीम अहमद

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

  • सलीम अहमद

  • सलीम अहमद

  • सलीम अहमद

  • titli ne kaha tha mashrik mashrik hai

    titli ne kaha tha mashrik mashrik hai सलीम अहमद

  • दिलों में दर्द भरता आँख में गौहर बनाता हूँ

    दिलों में दर्द भरता आँख में गौहर बनाता हूँ सलीम अहमद

  • जाने किसी ने क्या कहा तेज़ हवा के शोर में

    जाने किसी ने क्या कहा तेज़ हवा के शोर में सलीम अहमद

  • जाने किसी ने क्या कहा तेज़ हवा के शोर में

    जाने किसी ने क्या कहा तेज़ हवा के शोर में सलीम अहमद

  • तिरे साँचे में ढलता जा रहा हूँ

    तिरे साँचे में ढलता जा रहा हूँ सलीम अहमद

  • दिल के अंदर दर्द आँखों में नमी बन जाइए

    दिल के अंदर दर्द आँखों में नमी बन जाइए सलीम अहमद

  • दिल हुस्न को दान दे रहा हूँ

    दिल हुस्न को दान दे रहा हूँ सलीम अहमद

  • मैं सर छुपाऊँ कहाँ साया-ए-नज़र के बग़ैर

    मैं सर छुपाऊँ कहाँ साया-ए-नज़र के बग़ैर सलीम अहमद

  • मैं सर छुपाऊँ कहाँ साया-ए-नज़र के बग़ैर

    मैं सर छुपाऊँ कहाँ साया-ए-नज़र के बग़ैर सलीम अहमद

  • मेरा दुश्मन

    मेरा दुश्मन सलीम अहमद

  • मशरिक़ हार गया

    मशरिक़ हार गया सलीम अहमद