noImage

सालिक देहलवी

ग़ज़ल 2

 

शेर 1

नहीं इक बार भी अब सुनने की ताक़त दिल में

पहले सौ बार तिरा नाम लिया करते थे

  • शेयर कीजिए
 

संबंधित शायर

  • अनवर देहलवी अनवर देहलवी समकालीन