noImage

अनवर देहलवी

1847 - 1885 | दिल्ली, भारत

उत्तर-क्लासिकी शायर, ज़ौक़ और ग़ालिब के शिष्य अपने सर्वाधिक लोकप्रिय शेरों के लिए प्रसिद्ध

उत्तर-क्लासिकी शायर, ज़ौक़ और ग़ालिब के शिष्य अपने सर्वाधिक लोकप्रिय शेरों के लिए प्रसिद्ध

ग़ज़ल 12

शेर 26

मैं समझा आप आए कहीं से

पसीना पोछिए अपनी जबीं से

  • शेयर कीजिए

शर्म भी इक तरह की चोरी है

वो बदन को चुराए बैठे हैं

सूरत छुपाइए किसी सूरत-परस्त से

हम दिल में नक़्श आप की तस्वीर कर चुके

पुस्तकें 3

Deewan-e-Anwar

Nazm-e-Dilfareb

 

Nazm-e-Dilfroz

Diwan-e-Anwar

1899

सवानेह हयात

 

 

 

संबंधित शायर

  • सालिक देहलवी सालिक देहलवी समकालीन
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ गुरु
  • ज़हीर देहलवी ज़हीर देहलवी भाई
  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब गुरु

"दिल्ली" के और शायर

  • फ़रहत एहसास फ़रहत एहसास
  • इंशा अल्लाह ख़ान इंशा इंशा अल्लाह ख़ान इंशा
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • बहादुर शाह ज़फ़र बहादुर शाह ज़फ़र
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़
  • मोहम्मद रफ़ी सौदा मोहम्मद रफ़ी सौदा
  • मोमिन ख़ाँ मोमिन मोमिन ख़ाँ मोमिन