noImage

अनवर देहलवी

1847 - 1885 | दिल्ली, भारत

उत्तर-क्लासिकी शायर, ज़ौक़ और ग़ालिब के शिष्य अपने सर्वाधिक लोकप्रिय शेरों के लिए प्रसिद्ध

उत्तर-क्लासिकी शायर, ज़ौक़ और ग़ालिब के शिष्य अपने सर्वाधिक लोकप्रिय शेरों के लिए प्रसिद्ध

अनवर देहलवी

ग़ज़ल 12

शेर 26

मैं समझा आप आए कहीं से

पसीना पोछिए अपनी जबीं से

  • शेयर कीजिए

कुछ ख़बर होती तो मैं अपनी ख़बर क्यूँ रखता

ये भी इक बे-ख़बरी थी कि ख़बर-दार रहा

  • शेयर कीजिए

शर्म भी इक तरह की चोरी है

वो बदन को चुराए बैठे हैं

मिट्टी ख़राब है तिरे कूचे में वर्ना हम

अब तक तो जिस ज़मीं पे रहे आसमाँ रहे

  • शेयर कीजिए

सूरत छुपाइए किसी सूरत-परस्त से

हम दिल में नक़्श आप की तस्वीर कर चुके

पुस्तकें 2

Nazm-e-Dilfroz

Diwan-e-Anwar

1899

सवानेह हयात

 

 

 

संबंधित शायर

  • सालिक देहलवी सालिक देहलवी समकालीन
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ गुरु
  • ज़हीर देहलवी ज़हीर देहलवी भाई
  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब गुरु

"दिल्ली" के और शायर

  • दाग़ देहलवी दाग़ देहलवी
  • शैख़  ज़हूरूद्दीन हातिम शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम
  • इंशा अल्लाह ख़ान इंशा इंशा अल्लाह ख़ान इंशा
  • फ़रहत एहसास फ़रहत एहसास
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • राजेन्द्र मनचंदा बानी राजेन्द्र मनचंदा बानी
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • मोमिन ख़ाँ मोमिन मोमिन ख़ाँ मोमिन